"अहुरा मज़्दा" के अवतरणों में अंतर

छो (बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
''ऐ मज्द! जब मैंने तुम्हारा प्रथम साक्षात पाया'', इस प्रकार पैगंबर ने एक सुप्रसिद्ध पद में कहा है, ''मैंने तुम्हें केवल विश्व के आदि कर्ता के रूप में अभिव्यक्त पाया ओर तुमको ही विवेक का स्रष्टा (श्रेष्ठ, मिन्‌) एवं सद्धर्म का वास्तविक सर्जक तथा मानव जाति के समस्त कर्मों का नियामक समझा।''
 
अहुरमज्द का साक्षात्‌ केवल ध्यान का विषय है। पैगंबर ने इसी लिए ऐसी उपमाओं और रूपकों का आश्रय लेकर ईश्वर के विषय में समझाने का प्रयास किया है, जिनके द्वारा अनंत की कल्पना साधारण मनुष्य की समझ में आ पाए। वह ईश्वर से स्वयं वाणी में प्रकट होकर उपदेश करने के लिए अराधना करता है और इस बात का निर्देश करता है कि अपने चक्षुओं से सभी व्यक्त एवं अव्यक्त वस्तुओं को देखता है। इस प्रकार की अभिव्यंजनाएँ प्रतीकात्मक ही कही जाएँगी।
 
== इन्हें भी देखें ==
117

सम्पादन