"परिसम्पत्ति": अवतरणों में अंतर

3,496 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (बॉट: साँचा हटा रहा है: काम जारी)
No edit summary
{{About|व्यावसायिक परिभाषा}}
{{accounting}}
[[वित्तीय लेखाकर्म|वित्तीय लेखांकन]] में, '''परिसम्पत्ति''' ({{lang-en|asset}}) एक आर्थिक संसाधन है। हर मूर्त या अमूर्त चीज़वस्तु जिसका मूल्योत्पादन के लिए स्वामी बना जा सकेंसके या नियन्त्रण किया जा सकेंसके और जिसके पास सकारात्मकधनात्मक [[आर्थिक मूल्य]] हो, परिसम्पत्ति मानी जाती है। सरल शब्दों में, परिसम्पत्तियाँ [[स्वामित्व]] के मूल्य का प्रतिनिधित्व करती हैं, जो [[कॅशकैश]] में रूपान्तरित कियेंकिये जा सकें (यद्यपि, कॅशकैश स्वयं एक परिसम्पत्ति मानी जाती है)।<ref name="O'Sullivan 2003 272">{{cite book
| last = O'Sullivan
| first = Arthur
| pages = 272
| isbn = 0-13-063085-3}}</ref>
 
सम्पत्ति से आशय उद्यम के आर्थिक स्रोत से है जिन्हें [[मुद्रा]] में व्यक्त किया जा सकता है, जिनका मूल्य होता है और जिनका उपयोग व्यापर के संचालन व आय अर्जन के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए, मशीन, भूमि, भवन, ट्रक, आदि।
 
==औपचारिक परिभाषा==
| id =
| isbn = 978-0-409-04813-1}}</ref>
 
==प्रकार==
परिसम्पत्तियों के निम्नलिखित प्रकार है :-
 
'''स्थायी परिसम्पत्तियाँ''' (Fixed Assets) : स्थायी परिसम्पत्तियों से आशय उन परिसम्पत्तियों से है जो व्यवसाय में दीर्घकाल तक रखी जाने वाली होती हैं और जो पुनः विक्रय के लिए नहीं हैं। जैसे - भूमि, भवन, मशीन, उपस्कर आदि।
 
''चालू परिसम्पत्तियाँ''' (Current Assets) : चालू परिसम्पत्ति से आशय उन सम्पत्तियों से है जो व्यवसाय में पुनः विक्रय के लिए या अल्पावधि में [[रोकड़]] में परिवर्तित करने के लिए रखी जाती हैं। इसलिए इन्हें चालू सम्पत्तियाँ, चक्रीय सम्पत्तियाँ और परिवर्तनशील सम्पत्तियाँ भी कहा जाता है। उदाहरण : देयता, पूर्वदत्त व्यय, स्टॉक, प्राप्य बिल, आदि।
 
'''अमूर्त परिसम्पत्तियाँ''' (Intangible Assets) : अमूर्त परिसम्पत्ति वे सम्पत्तियाँ हैं जिनका भौतिक अस्तित्व नहीं होता है, किन्तु उनका मौद्रिक मूल्य होता है। जैसे - ख्याति, ट्रेडमार्क, पेटेण्ट्स, इत्यादि।
 
'''मूर्त परिसम्पत्तियाँ''' (Tangible Assets) : मूर्त परिसम्पत्ति वे सम्पत्तियाँ हैं जिन्हें देखा तथा छूआ जा सकता हो अर्थात जिनका भौतिक अस्तित्व हो। जैसे - भूमि, भवन, मशीन, संयंत्र, उपस्कर, स्टॉक, आदि।
 
'''क्षयशील परिसम्पत्तियाँ''' (Wasting Assets) : क्षयशील परिसम्पत्तियाँ वे सम्पत्तियाँ हैं जो प्रयोग या उपभोग के कारण घटती जाती हैं या नष्ट हो जाती हैं। उदाहरण -
[[खान|खानें]], तेल के कुँए, आदि।
 
==सन्दर्भ==