"प्रकाश का वेग": अवतरणों में अंतर

138 बाइट्स जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
→‎इतिहास: प्रकाश ऊर्जा है जिससे हमें वस्तु दिखाई देती हैं
(improved some statements for better understanding.)
(→‎इतिहास: प्रकाश ऊर्जा है जिससे हमें वस्तु दिखाई देती हैं)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
 
== इतिहास ==
सत्राहवीं सदी के मध्य तक धारणा यह थी कि प्रकाश का वेग अनंत होता है, अर्थात् उसे एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुँचने में कुछ भी समय नहीं लगता। गैलिलियो ने प्रकाश की चाल को मापने का प्रयास किया था, परन्तु उनके प्रयोग में मानव-प्रतिक्रिया-काल से होने वाली त्रुटी की वजह से वे प्रकाश की गति मापने में नाकामयाब रहे| सितंबर1676 में रोमर ने बताया कि प्रकाश का वेग तीव्र होने के बावजूद 'परिमित' है। [[बृहस्पति]] के एक उपग्रह, इओ, के ग्रहणों के अंतर काल में पृथ्वी से संबंधित दूरी के बदलने से होने वाले परिवर्तन का अध्ययन कर, रोमर ने प्रकाश को पृथ्वी की कक्षा के व्यास को पार करने में लगनेवाले काल को निकालाने का तरीका सुझाया| हालांकि, उस तरीके के आधार पर गणना करने वाले पहले व्यक्ति क्रिस्चियन हुय्गेंस थे, जो 2,14,300 किलोमीटर प्रति सेकंड के बराबर ज्ञात हुआ, फिर भी प्रकाश की गति निकालने वाले व्यक्ति के रूप में रोमर को ही श्री मिलता है । उन समय के वैज्ञानिक ज्ञान को देखते हुए यह अत्यंत प्रशंसनीय कार्य था|थाl “प्रकाश ऊर्जा है जिससे हमें वस्तुएं दिखाई देते हैं”
 
== परिचय ==
गुमनाम सदस्य