"आर्यभट" के अवतरणों में अंतर

6 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
→‎आर्यभट का योगदान: वाक्य संयोजक शब्द प्रयोग
(→‎आर्यभट का योगदान: वर्तनीदोष सुधार)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(→‎आर्यभट का योगदान: वाक्य संयोजक शब्द प्रयोग)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
उन्होंने एक ओर गणित में पूर्ववर्ती [[आर्किमिडीज़]] से भी अधिक सही तथा सुनिश्चित [[पाई]] के मान को निरूपित किया{{Ref_label|मान|क|none}} तो दूसरी ओर खगोलविज्ञान में सबसे पहली बार उदाहरण के साथ यह घोषित किया गया कि स्वयं '''पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती है'''।{{Ref_label|पृथ्वी|ख|none}}
 
आर्यभट ने ज्योतिषशास्त्र के आजकल के उन्नत साधनों के बिना जो खोज की थी,यह उनकी महत्ता है। [[कोपर्निकस]] (1473 से 1543 ई.) ने जो खोज की थी उसकी खोज आर्यभट हजार वर्ष पहले कर चुके थे। "गोलपाद" में आर्यभट ने लिखा है "नाव में बैठा हुआ मनुष्य जब प्रवाह के साथ आगे बढ़ता है, तब वह समझता है कि अचर वृक्ष, पाषाण, पर्वत आदि पदार्थ उल्टी गति से जा रहे हैं। उसी प्रकार गतिमान पृथ्वी पर से स्थिर नक्षत्र भी उलटी गति से जाते हुए दिखाई देते हैं।" इस प्रकार आर्यभट ने सर्वप्रथम यह सिद्ध किया कि पृथ्वी अपने अक्ष पर घूमती है। इन्होंने सतयुग, त्रेता, द्वापर और कलियुग को समान माना है। इनके अनुसार एक कल्प में 14 मन्वंतर और एक मन्वंतर में 72 महायुग (चतुर्युग) तथा एक चतुर्युग में सतयुग, द्वापर, त्रेता और कलियुग को समान माना है।
 
आर्यभट के अनुसार किसी वृत्त की परिधि और व्यास का संबंध '''62,832 : 20,000''' आता है जो चार दशमलव स्थान तक शुद्ध है।
215

सम्पादन