"आर्यभट" के अवतरणों में अंतर

9 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
→‎ग्रहण: भाषानुरूप शब्द संयोजन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(→‎ग्रहण: भाषानुरूप शब्द संयोजन)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
==== ग्रहण ====
 
उन्होंने कहा कि [[चंद्रमा]] और ग्रह सूर्य के परावर्तित प्रकाश से चमकते हैं। मौजूदा ब्रह्माण्डविज्ञान से अलग, जिसमे ग्रहणों का कारक छद्म ग्रह निस्पंद बिन्दु [[राहू]] और [[केतु]] थे, उन्होंने ग्रहणों को पृथ्वी द्वारा डाली जाने वाली और इस पर गिरने वाली छाया से सम्बद्ध बताया। इस प्रकार चंद्रगहण तब होता है जब चाँदचंद्रमा पृथ्वी की छाया में प्रवेश करता है (छंद गोला. ३७) और पृथ्वी की इस छाया के आकार और विस्तार की विस्तार से चर्चा की (छंद गोला. ३८-४८) और फिर ग्रहण के दौरान ग्रहण वाले भाग का आकार और इसकी गणना। बाद के भारतीय खगोलविदों ने इन गणनाओं में सुधार किया, लेकिन आर्यभट की विधियों ने प्रमुख सार प्रदान किया था। यह गणनात्मक मिसाल इतनी सटीक थी कि 18 वीं सदी के वैज्ञानिक [[गुइलौमे ले जेंटिल|गुइलौम ले जेंटिल]] ने, पांडिचेरी की अपनी यात्रा के दौरान, पाया कि भारतीयों की गणना के अनुसार [[१७६५-०८-३०]] के [[चंद्रगहण|चंद्रग्रहण]] की अवधि ४१ सेकंड कम थी, जबकि उसके चार्ट (द्वारा, टोबिअस मेयर, १७५२) ६८ सेकंड अधिक दर्शाते थे।<ref name="Ansari" />
 
आर्यभट कि गणना के अनुसार पृथ्वी की [[परिधि]] ३९,९६८.०५८२ किलोमीटर है, जो इसके वास्तविक मान ४०,०७५.०१६७ किलोमीटर से केवल ०.२% कम है। यह सन्निकटन [[ग्रीक गणित|यूनानी गणितज्ञ]], [[एरातोस्थेनेस|एराटोसथेंनस]] की संगणना के ऊपर एक उल्लेखनीय सुधार था,२०० ई.) जिनका गणना का आधुनिक इकाइयों में तो पता नहीं है, परन्तु उनके अनुमान में लगभग ५-१०% की एक त्रुटि अवश्य थी।<ref>"[http://www-istp.gsfc.nasa.gov/stargaze/Scolumb.htm दी राउंड अर्थ]", ''एनएएसए'', १२ दिसम्बर २००४, २४ जनवरी २००८ को वापस.</ref>
215

सम्पादन