"ज्ञानेश्वर मुळे" के अवतरणों में अंतर

2,495 बैट्स् जोड़े गए ,  3 वर्ष पहले
छो
आलोचना
छो (वृत्त चित्र)
छो (आलोचना)
 
2015 में, 'जिप्सी' नामक एक वृत्तचित्र, ज्ञानेश्वर मुळे के जीवन और कार्य पर प्रकाश डालते हुए, निदेशक धनंजय भावलेकर ने बनाया था। फिल्म को लघु वृत्तचित्र समारोह में 'विशेष जूरी पुरस्कार' मिला। जनवरी 2016 में, जाने-माने लेखक दीपा देशमुख ने एक पुस्तक 'डॉ ज्ञानेश्वर मुळे - भारत का पासपोर्ट मैन '।
 
'''आलोचना'''
 
नवंबर 2012 में, मालदीव में आयोजित रैली में इब्राहिम नासीर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के भारतीय इंफ्रास्ट्रक्चर प्रमुख जीएमआर समूह को पट्टे पर प्रदान करने के खिलाफ राजकिय नियुक्त श्री रजा ने आरोप लगाया कि श्री मुळे मालदीव और मालदीवियन लोगों के लिए एक गद्दार और दुश्मन है । उन्होंने यह भी कहा कि एक राजनयिक का काम अपने देश और लोगों के लिए काम करना है और एक निजी कंपनी के हितों की रक्षा नहीं करना है। बाद में श्री रिजा ने इनकार कर दिया कि उन्होंने ऐसी कोई टिप्पणी की है। राष्ट्रपति श्री वाहिद ने सफाई देते हुए कहा कि रिजा और कुछ अन्य सरकारी अधिकारियों द्वारा की गई टिप्पणियों में सरकार के विचारों को प्रतिबिंबित नहीं किया गया है । [8] बाद में, श्री रिजा ने अपनी राजनीतिक पार्टी (जेपी-जमहौरी पार्टी) से इस्तीफा दे दिया क्योंकि पार्टी ने औपचारिक रूप से उनके इस आरोपों से अपने को दूर रखा था। सत्तारूढ़ गठबंधन (पीपीएम, डीआरपी और जेपी) और विपक्षी (एमडीपी) दोनों प्रमुख राजनीतिक दलों ने इस टिप्पणी की निंदा की है तथा संबंधित प्रेस वक्तव्य में अस्वीकार कर दिया है। [9]
72

सम्पादन