"समुद्र मन्थन" के अवतरणों में अंतर

130 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
→‎कथा: वासुकी के नेत्र से नेतङ(राजपुरोहित) का उद्भव हुआ।
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन
(→‎कथा: वासुकी के नेत्र से नेतङ(राजपुरोहित) का उद्भव हुआ।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
{{Double image stack|right|Samudrala_churning.JPG|Bangkok_Airport_08.JPG|200|[[सुवर्णभूमि अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र]], [[बैंगकॉक]] में [[सागर मन्थन]] की एक प्रतिमा के दो तरफ़ से चित्र}}
"भगवान के आदेशानुसार इन्द्र ने समुद्र मंथन से अमृत निकलने की बात बलि को बताया। दैत्यराज बलि ने देवराज इन्द्र से समझौता कर लिया और समुद्र मंथन के लिये तैयार हो गये। [[मन्दराचल]] [[पर्वत]] को मथनी तथा [[वासुकी]] [[नाग]] को नेती बनाया गया। वासुकी के नेत्र से नेतङ(राजपुरोहित) का उद्भव हुआ। स्वयं भगवान श्री विष्णु कच्छप अवतार लेकर मन्दराचल पर्वत को अपने पीठ पर रखकर उसका आधार बन गये। भगवान नारायण ने दानव रूप से दानवों में और देवता रूप से देवताओं में शक्ति का संचार किया। वासुकी नाग को भी गहन निद्रा दे कर उसके कष्ट को हर लिया। देवता वासुकी नाग को मुख की ओर से पकड़ने लगे। इस पर उल्टी बुद्धि वाले दैत्य, असुर, दानवादि ने सोचा कि वासुकी नाग को मुख की ओर से पकड़ने में अवश्य कुछ न कुछ लाभ होगा। उन्होंने देवताओं से कहा कि हम किसी से शक्ति में कम नहीं हैं, हम मुँह की ओर का स्थान लेंगे। तब देवताओं ने वासुकी नाग के पूँछ की ओर का स्थान ले लिया।
 
"समुद्र मंथन आरम्भ हुआ और भगवान कच्छप के एक लाख [[योजन]] चौड़ी पीठ पर मन्दराचल पर्वत घूमने लगा। हे राजन! समुद्र मंथन से सबसे पहले जल का हलाहल विष निकला। उस विष की ज्वाला से सभी देवता तथा दैत्य जलने लगे और उनकी कान्ति फीकी पड़ने लगी। इस पर सभी ने मिलकर भगवान शंकर की प्रार्थना की। उनकी प्रार्थना पर [[महादेव]] जी उस विष को हथेली पर रख कर उसे पी गये किन्तु उसे कण्ठ से नीचे नहीं उतरने दिया। उस [[कालकूट]] विष के प्रभाव से शिव जी का कण्ठ नीला पड़ गया। इसीलिये महादेव जी को [[नीलकण्ठ]] कहते हैं। उनकी हथेली से थोड़ा सा विष पृथ्वी पर टपक गया था जिसे साँप, बिच्छू आदि विषैले जन्तुओं ने ग्रहण कर लिया।
बेनामी उपयोगकर्ता