"परवलय" के अवतरणों में अंतर

108 बैट्स् जोड़े गए ,  3 वर्ष पहले
छो
सम्पादन सारांश रहित
छो
[[चित्र:Parts of Parabola.svg|right|thumb|196px|परवलय और उससे संबंधित पारिभाषिक शब्द]]
गणित में, परवलय एक द्विविमीय समतलीय [[वक्र]] है जो दर्पण-सममित होता है और यह [[अंग्रेज़ी भाषा|अंग्रेज़ी]] अक्षर U के आकार का होता है। '''परवलय''' (पैराबोला) एक द्विमीय [[वक्र]] है जिसे कई तरह से परिभाषित किया जाता है। एक परिभाषा परवलय को [[शांकव]] के एक विशेष रूप में परिभाषित करती है। इसके अनुसार, परवलय वह शांकव है जिनकी उत्केन्द्रता १ के बराबर होती है। परवलय को [[बिन्दुपथ]] के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। परवलय ऐसे बिन्दुओं का [[बिन्दुपथ]] है जिसकी किसी निश्चित [[रेखा]] से दूरी, किसी निश्चित [[बिन्दु]] से दूरी के बराबर होती है। यहाँ उस रेखा को नियता (डायरेक्ट्रिक्स) एवं उस बिन्दु को नाभि (फोकस) कहते हैं।
 
उदाहरण के लिए, समीकरण x<sup>2</sup> = 4ay एक परवलय को निरूपित करता है जिसकी नियता '''y = -a''' तथा नाभि '''(a,0)''' है।
 
== बिंदुपथ के रूप में परवलय की परिभाषा ==
[[ज्यामिति|ज्यामिती]] में परवलय, [[यूक्लिड]] तल पर बिन्दुओं के एक [[बिंदुपथ|बिन्दुपथ]] के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।
[[चित्र:Parabel-def-p-v.svg|अंगूठाकार|परवलय, यहाँ p, अर्द्ध नाभिलंब है।]]
 
108

सम्पादन