"महिला" के अवतरणों में अंतर

715 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
छो
(ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: मे → में , पडता → पड़ता)
 
== विभिन्न संस्कृतियों मे नारी ==
 
=== भारतीय नारी ===
ऐतिहासिक तौर पर भारतीय नारी की भूमिका में काफ़ी फ़र्क आया है। परम्परागत तौर पर [[मध्य वर्ग]] में नारी की भूमिका घरेलू कामों से जुडी़ रहती थी जैसे कि बच्चों की देखभाल करना और ज़्यादातर औरतें पैसे कमाने नहीं जाती थीं। गरीब नारी में, खासकर के [[मेहनती वर्ग]] में पैसों की कमी की वजह से नारी को काम करना पड़ता था, हालांकि औरतों को दिये जाने वाले काम हमेशा मर्दों को दिये जाने वाले कामों से प्रतिष्ठा और पैसों दोनो में छोटे होते थे। धीरे-धीरे, घर की नारी का काम न करना धन और प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाने लगा जबकि नारी के काम करने का मतलब उस घर को निचले वर्ग का गिना जाता था। आरती वर्मा एक महान महिला /
लेकिन वर्तमान में नारी का कम करना प्रतिष्ठा की सूचक बनता जा रहा हैं.संतोषी सदा सुखी की नितांत अंतर्निहित नारी की सोच में महिलाएं अपनी क्षमता का आकलन कर अदूर्द्र्शितापूर्ण निर्णय लेने लगी हैं.नैतिक मूल्यों का गला घोटकर अपने भविष्य के प्रति अनिश्चितता की भावना भी रखती हैं.
 
== बाहरी कडियाँ ==
3

सम्पादन