"मजरुह सुल्तानपुरी" के अवतरणों में अंतर

1,973 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
छो
 
जिन फिल्मों के लिए आपने गीत लिखे उनमें से कुछ के नाम हैं-सी.आई.डी., चलती का नाम गाड़ी, नौ-दो ग्यारह, तीसरी मंज़िल, पेइंग गेस्ट, काला पानी, तुम सा नहीं देखा, दिल देके देखो, दिल्ली का ठग, इत्यादि।
पंडित नेहरू की नीतियों के खिलाफ एक जोशीली कविता लिखने के कारण मजरूह सुल्तानपुरी को सवा साल जेल में रहना पड़ा। 1994 में उन्हें फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान [[दादा साहब फाल्के पुरस्कार]] से सम्मानित किया गया। इससे पूर्व 1980 में उन्हें ग़ालिब एवार्ड और 1992 में इकबाल एवार्ड प्राप्त हुए थे। वे जीवन के अंत तक फिल्मों से जुड़े रहे। 24 मई 2000 को मुंबई में उनका देहांत हो गया। <ref name=BBC>{{cite news |url= http://news.bbc.co.uk/2/hi/south_asia/763291.stm |title= Hindi film songwriter dies |accessdate=11 May 2018 |last= |first= |date=25 May 2000|work= |publisher= ''[[BBC News]]''}}</ref>
==नासीर हुसैन के साथ एसोसिएशन==
मजरुह और नासीर हुसैन ने पहली बार फिल्म पेइंग गेस्ट पर सहयोग किया, जिसे नासीर ने लिखा था। नासीर के निदेशक और बाद में निर्माता बनने के बाद वे कई फिल्मों में सहयोग करने गए, जिनमें से सभी के पास बड़ी हिट थीं और कुछ महारूह के सबसे यादगार काम हैं:
 
* तुम्सा नाहिन देखा (1957)
* दिल देके देखो
* फिर वोही दिल लया हुन
* तेसरी मंजिल (1966)
* बहार के सपने
* प्यार का मौसम
* कारवां (गीत पिया तू अब टू अजा)
* याददान की बारात (1973)
* हम किसिस कुम नाहेन (1977)
* ज़मान को दीखाना है
* कयामत से कयामत तक (1988)
* जो जीता वोही सिकंदर (1992)
* अकेले हम अकेले तुम
* कही हन कही ना
मजरूह भी टीएसरी मंजिल के लिए नासीर को आरडी बर्मन पेश करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते थे। तीनों ने उपर्युक्त फिल्मों में से 7 में काम किया। बर्मन ज़मीन को दीखाना है के बाद 2 और फिल्मों में काम करने के लिए चला गया।
 
==मौत ==
वे जीवन के अंत तक फिल्मों से जुड़े रहे। 24 मई 2000 को मुंबई में उनका देहांत हो गया। <ref name=BBC>{{cite news |url= http://news.bbc.co.uk/2/hi/south_asia/763291.stm |title= Hindi film songwriter dies |accessdate=11 May 2018 |last= |first= |date=25 May 2000|work= |publisher= ''[[BBC News]]''}}</ref>
 
== हस्ताक्षर ==