मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

आकार में कोई परिवर्तन नहीं, 1 वर्ष पहले
→‎सन्दर्भ: छोटा सा सुधार किया।
अध्यात्म रामायण के अनुसार वामन भगवान राजा बलि के सुतल लोक में द्वारपाल बन गये<ref>P. 281 ''The Adhyatma Ramayana: Concise English Version'' By Chandan Lal Dhody </ref><ref> P. 134 ''{{IAST|Srī Rūpa Gosvāmī's Bhakti-rasāmṛta-Sindhuh}}'' By Rūpagosvāmī, Bhakti Hridaya Bon </ref> और सदैव बने रहेंगे।<ref> P. 134 ''Sri Rūpa Gosvāmīs Bhakti-rasāmrta-sindhuh'' By Rūpagosvāmī </ref> [[तुलसीदास]] द्वारा रचित [[रामचरितमानस]] में भी इसका ऐसा ही उल्लेख है।<ref> P. 246 ''Complete Works of Gosvami Tulsidas'' By Satya Prakash Bahadur, Tulasīdāsa </ref>
 
==vamandevay namuh namuh सन्दर्भ ==
{{टिप्पणीसूची}}
 
बेनामी उपयोगकर्ता