"पुरुषार्थ" के अवतरणों में अंतर

478 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
भारतीय संस्कृति में इन चारों पुरूषार्थो का विशिष्ट स्थान रहा है ।वस्तुतः इन पुरूषार्थो ने ही भारतीय संस्कृति में आध्यात्मिकता के साथ भौतिकता का एक अद्भुत समन्वय स्थापित किया है ।
(भारतीय संस्कृति में इन चारों पुरूषार्थो का विशिष्ट स्थान रहा है ।वस्तुतः इन पुरूषार्थो ने ही भारतीय संस्कृति में आध्यात्मिकता के साथ भौतिकता का एक अद्भुत समन्वय स्थापित किया है ।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
महर्षि [[वात्स्यायन]] भी मनु के पुरुषार्थ-चतुष्टय के समर्थक हैं किन्तु वे मोक्ष तथा परलोक की अपेक्षा धर्म, अर्थ, काम पर आधारित सांसारिक जीवन को सर्वोपरि मानते हैं।
 
[[योगवासिष्ठ]] के अनुसार सद्जनो और शास्त्र के उपदेश अनुसार चित्त का विचरण ही पुरुषार्थ कहलाता है।|<ref>http://hariomgroup.org/hariombooks/paath/Hindi/ShriYogaVashishthaMaharamayan/ShriYogaVashihthaMaharamayan-Prakarana-2.pdf</ref>
भारतीय संस्कृति में इन चारों पुरूषार्थो का विशिष्ट स्थान रहा है ।वस्तुतः इन पुरूषार्थो ने ही भारतीय संस्कृति में आध्यात्मिकता के साथ भौतिकता का एक अद्भुत समन्वय स्थापित किया है ।
 
 
<ref>http://hariomgroup.org/hariombooks/paath/Hindi/ShriYogaVashishthaMaharamayan/ShriYogaVashihthaMaharamayan-Prakarana-2.pdf</ref>
 
==धर्म==
1

सम्पादन