"खगोलीय पार्श्व सूक्ष्मतरंगी विकिरण": अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
No edit summary
[[चित्र:WMAP 2010.png|thumb|ब्रह्माण्ड में हर तरफ़ फैला हुआ हल्का [[सूक्ष्मतरंग|सूक्ष्मतरंगी]] [[विकिरण]] [[बिग बैंग सिद्धांत|बिग बैंग]] के धमाके का सबूत माना जाता है]]
[[खगोलशास्त्र]] में '''खगोलीय पार्श्व सूक्ष्मतरंगी विकिरण''' (ख॰पा॰सू॰वि॰, [[अंग्रेज़ी]]: cosmic microwave background radiation, कॉस्मिक माइक्रोवेव बैकग्राउंड रेडियेशन) उस [[विकिरण]] (रेडियेशन) को बोलते हैं जो [[पृथ्वी]] से देखे जा सकने वाले [[ब्रह्माण्ड]] में बराबर स्तर से हर और फैली हुई है। आम [[प्रकाश]] देखने वाली दूरबीन से आकाश में कुछ जगह वस्तुएँ (जैसे ग्रह, [[गैलेक्सियाँ]], वग़ैराह) दिखाई देती हैं और अन्य जगहों पर अँधेरा। लेकिन [[सूक्ष्मतरंग]] (माइक्रोवेव) माप सकने वाले रेडिओ दूरबीन (रेडीओ टेलिस्कोप) से देखा जाए तो हर दिशा में एक हलकी सूक्ष्म्तरंगी लालिमा फैली हुई है।
[[File:Cosmic Calendar.png|600px|center|thumb|ब्रह्मांडीय कैलेंडर]]
 
वैज्ञानिक मानते हैं के यह ख॰पा॰सू॰वि॰ [[बिग बैंग सिद्धांत]] का सबूत देता है। [[अरब (संख्या)|अरबों]] साल पहले, जब ब्रह्माण्ड पैदा हुआ था उसके फ़ौरन बाद उसका अकार आज के मुक़ाबले में बहुत छोटा था और उसमें खौलती हुई [[हाइड्रोजन]] की [[प्लाज़्मा]] गैस फैली हुई थी। उस गैस की उर्जा से जो [[फ़ोटोन]] (प्रकाश या सूक्ष्मतरंग के कण) पैदा हुए थे वे तब से ब्रह्माण्ड में इधर-उधर घूम रहे हैं और वही हम आज ख॰पा॰सू॰वि॰ के रूप में देखते हैं।
 
938

सम्पादन