"सहायता:लॉगिंग इन" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
सालों पहले गरासिया जनजाति के चार भाई कहीं और जाकर बस गए। इनमें से तीन ने शादी की और एक समाज की कुंवारी लड़की के साथ लिव-इन में रहने लगा। शादीशुदा तीनों भाइयों के कोई औलाद नहीं हुई बल्कि लिव-इन में रहने वाले भाई के बच्चे हुए और उसी से वंश आगे बढ़ा। बस इसी धारणा ने समाज के लोगों के जेहन में इस परंपरा को जन्म दिया। कहते हैं इन जनजाति में ये ट्रेडिशन 1 हजार साल पुराना है। यह परम्परा दापा प्रथा कहलाती है।
{| class="wikitable"
 
!Born
राजस्थान और गुजरात में इस समाज का दो दिन का ‘विवाह मेला’ लगता है, जिसमें टीनएजर एक-दूसरे से मिलते हैं और भाग जाते हैं। भागकर वापस आने पर लड़के-लड़कियां बिना शादी के पति-पत्नी की तरह साथ रहने लगते हैं। इस दौरान सामाजिक सहमति से लड़की वाले को कुछ पैसे लड़के वाले दे देते हैं। हालांकि, बच्चे पैदा होने के बाद वे अपनी सहूलियत से कभी भी शादी कर सकते हैं।
|21 June 2000(age 18)
UP, Bareilly,
|-
!Nationality
|[[India|Indian]]
|-
!Alma mater
|Up Badaun Pt. jawahar Lal Nehru
|-
!Occupation
|Actor
|-
!Years active
|2018 - present
|}
[[श्रेणी:विकिपीडिया सहायता]]
बेनामी उपयोगकर्ता