"केशवदास": अवतरणों में अंतर

3 बाइट्स हटाए गए ,  4 वर्ष पहले
[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
छो (2405:204:A010:663C:FEA0:9AA1:7A09:F7BB (Talk) के संपादनों को हटाकर 14.139.244.242 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
 
== काव्यगत विशेषताएं ==
केशव [[अलंकार सम्प्रदाय]]वादी आचार्य कवि थे। इसलिये स्वाभाविक था कि वे [[भामह]], [[उद्भट]] और [[दंडी]] आदि अलंकार सम्प्रदाय के आचार्यों का अनुसरण करते। इन्होंने अलंकारों के दो भेद माने हैं, साधारण और विशिष्ट। साधारण के अन्तर्गत वर्णन, वर्ण्य, भूमिश्री-वर्णन और राज्यश्री-वर्णन आते है जो काव्यकल्पलतावृत्ति और अलंकारशेखर पर आधारित हैं। इस तरह वे अलंकार्य और अलंकार में भेद नहीं मानते। अलंकारों के प्रति विशेष रुचि होने के कारणाकारण काव्यपक्ष दब गया है और सामान्यत: ये सहृदय कवि नहीं माने जाते। अपनी क्लिष्टता के कारण ये '''कठिन काव्य के प्रेत''' कहे गए हैं। विशिष्ट प्रबंधकाव्य रामचंद्रिका प्रबधनिर्वाह, मार्मिक स्थलों की पहचान, प्रकृतिवर्णन आदि की दृष्टि से श्रेष्ठ नहीं है। परंपरा पालन तथा अधिकाधिक अलंकारों को समाविष्ट करने के कारण वर्णनों की भरमार है। चहल-पहल, नगरशोभा, साजसज्जा आदि के वर्णन में इनका मन अधिक रमा है। संवादों की योजना में, नाटकीय तत्वों के संनिवेश के कारण, इन्हें विशेष सफलता मिली है। प्रबंधों की अपेक्षा मुक्तकों में इनकी सरलता अधिक स्थलों पर व्यक्त हुई है।
 
==== वर्ण्य विषय ====
गुमनाम सदस्य