"हास्य": अवतरणों में अंतर

85 बाइट्स जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
विलय का सुझाव
No edit summary
(विलय का सुझाव)
{{विलय|हास्य रस तथा उसका साहित्य}}
'''हास्य''' 9 रसों में से एक रस है जिसका अर्थ सुखांतक अथवा कामदी होता है। रस का अर्थ एक भाव/आस्वाद से होता है और रस-सिद्धान्त में प्राचीन भारतीय कला जिसमें [[रंगमंच]], [[संगीत]], [[नृत्य]], [[काव्य]] और [[शिल्पकला]] भी शामिल है।
 
29,860

सम्पादन