"इन्दिरा गांधी" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
(CommonsDelinker द्वारा Indira2.jpg की जगह File:Indira_Gandhi_in_1967.jpg लगाया जा रहा है (कारण: File renamed:))
 
== प्रधान मंत्री ==
[[चित्र:Chegada ao Rio de Janeiro de Indira Priyadarshini Gandhi, primeira ministra da Índia..tif|अंगूठाकार|ब्राजील में इंदिरा गांधी की यात्रा, 1968। ब्राजील का राष्ट्रीय संग्रह।]]
 
=== विदेश तथा घरेलू नीति एवं राष्ट्रिय सुरक्षा ===
सन् 1966 में जब श्रीमती गांधी प्रधानमंत्री बनीं, कांग्रेस दो गुटों में विभाजित हो चुकी थी, श्रीमती गांधी के नेतृत्व में [[समाजवाद|समाजवादी]] और [[मोरारजी देसाई]] के नेतृत्व में [[रूढीवादी]]। [[मोरारजी देसाई]] उन्हें "गूंगी गुड़िया" कहा करते थे। 1967 के चुनाव में आंतरिक समस्याएँ उभरी जहां कांग्रेस लगभग 60 सीटें खोकर 545 सीटोंवाली [[लोक सभा]] में 297 आसन प्राप्त किए। उन्हें देसाई को भारत के [[भारत के उप प्रधानमंत्री]] और [[भारत के वित्त मंत्री|वित्त मंत्री]] के रूप में लेना पड़ा। 1969 में देसाई के साथ अनेक मुददों पर असहमति के बाद [[भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस]] विभाजित हो गयी। वे समाजवादियों एवं साम्यवादी दलों से समर्थन पाकर अगले दो वर्षों तक शासन चलाई। उसी वर्ष जुलाई 1969 को उन्होंने बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया। 1971 में बांग्लादेशी शरणार्थी समस्या हल करने के लिए उन्होंने पूर्वी पाकिस्तान की ओर से, जो अपनी स्वतंत्रता के लिए लड़ रहे थे, [[पाकिस्तान]] पर युद्ध घोषित कर दिया। 1971 के युद्ध के दौरान राष्ट्रपति [[रिचर्ड निक्सन]] के अधीन अमेरिका अपने [[सातवें बेड़े]] को भारत को पूर्वी पाकिस्तान से दूर रहने के लिए यह वजह दिखाते हुए कि पश्चिमी पाकिस्तान के खिलाफ एक व्यापक हमला विशेष रूप से[[कश्मीर]] के सीमाक्षेत्र के मुद्दे को लेकर हो सकती है, चेतावनी के रूप में [[बंगाल की खाड़ी]]में भेजा। यह कदम प्रथम विश्व से भारत को विमुख कर दिया था और प्रधानमंत्री गांधी ने अब तेजी के साथ एक पूर्व सतर्कतापूर्ण राष्ट्रीय सुरक्षा और विदेश नीति को नई दिशा दी। भारत और सोवियत संघ पहले ही [[मित्रता तथा आपसी सहयोग संधि|मित्रता और आपसी सहयोग]] संधि पर हस्ताक्षर किए थे, जिसके परिणामस्वरूप 1971 के युद्ध में भारत की जीत में राजनैतिक और सैन्य समर्थन का पर्याप्त योगदान रहा।
* [[वेद मेहता]], ''एक पारिवारिक मामला:भारत तीन प्रधानमंत्रियों के दौर में'' 1982 ISBN 0-19-503118-0
* [[पुपुल जयकार]], ''इंदिरा गाँधी:एक अन्तरंग जीवनगाथा'' (1992)ISBN 978-0-679-42479-6
* [[कैथेरीन फ्रैंक]], ''इंदिरा नेहरू गाँधी''(2002) ISBN 0-395-73097-X
* [[मार्क टली]], अमृतसर: मिसेस गाँधीज लास्ट बैटल
 
6

सम्पादन