"रामदेव पीर" के अवतरणों में अंतर

144 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
दलित सब्द का ज्यादा बार प्रयोग हुआ तो जो संविधान के विरुद्ध है बस इसको हताया गया bhanywad
(दलित सब्द का ज्यादा बार प्रयोग हुआ तो जो संविधान के विरुद्ध है बस इसको हताया गया bhanywad)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
'''रामदेव जी'''<ref>[http://hindi.webdunia.com/sanatan-dharma-mahapurush/ramapeer-114102900012_1.html रामदेव जी के पर्चे]</ref> [[राजस्थान]] के एक लोक देवता हैं।
 
१५वीं [[शताब्दी]] के आरम्भ में [[भारत]] में लूट खसोट, छुआछूत, हिंदू-मुस्लिम झगडों आदि के कारण स्थितियाँ बड़ी़ी अराजक बनी हुई थीं और भेरव नामक राक्षस का आतंक था। ऐसे विकट समय में पश्चिम राजस्थान के [[पोकरण]] नामक प्रसिद्ध नगर के पास रुणिचा नामक स्थान में [[तंवर]] वंशीय [[राजपूत]] और रुणिचा के शासक अजमाल जी के घर भादो शुक्ल पक्ष दूज के दिन विक्रम सम्वत् 1409 को बाबा रामदेव पीर अवतरित हुए (द्वारकानाथ ने राजा अजमल जी के घर अवतार लिया, जिन्होंने लोक में व्याप्त अत्याचार, वैर-द्वेष, [[छुआछूत]] का [[विरोध]] कर अछूतोद्धार का सफल आन्दोलन चलाया।जन्म स्थान-ग्राम उण्डू काश्मीर तहशिल शिव जिला बाडमेर राजस्थान
 
== परिचय ==
:::'''पाबू हडू रामदे ए माँगाळिया मेहा।'''
:::'''पांचू पीर पधारजौ ए गोगाजी जेहा॥'''
 
बाबा रामदेव ने छुआछूत के खिलाफ कार्य कर सिर्फ़ दलितों का पक्ष ही नहीं लिया वरन उन्होंने दलितसुद्र समाज की सेवा भी की। डाली बाई नामक एक दलितमेगवाल समाज की कन्या का उन्होंने अपने घर बहन-बेटी की तरह रख कर पालन-पोषण भी किया।किया यही कारण है आज बाबा के भक्तो में एक बहुत बड़ी संख्या दलित भक्तों की है। बाबा रामदेव [[पोकरण]] के शासक भी रहे लेकिन उन्होंने राजा बनकर नहीं अपितु जनसेवक बनकर गरीबों, दलितोंजाति भेदभाव , [[असाध्य]] रोगग्रस्त रोगियों व जरुरत मंदों की सेवा भी की। यही नहीं उन्होंने पोकरण की जनता को भैरव राक्षक के आतंक से भी मुक्त कराया। प्रसिद्ध इतिहासकार मुंहता नैनसी ने भी अपने ग्रन्थ "मारवाड़ रा परगना री विगत" में इस घटना का जिक्र करते हुए लिखा है- भैरव राक्षस ने पोकरण नगर आतंक से सुना कर दिया था लेकिन बाबा रामदेव के अदभूत एवं दिव्य [[व्यक्तित्व]] के कारण राक्षस ने उनके आगे आत्म-समर्पण कर दिया था और बाद में उनकी आज्ञा अनुसार वह मारवाड़ छोड़ कर चला गया।
बाबा रामदेव ने अपने जीवन काल के दौरान और समाधि लेने के बाद कई चमत्कार दिखाए जिन्हें लोक भाषा में परचा देना कहते है। इतिहास व लोक कथाओं में बाबा द्वारा दिए ढेर सारे परचों का जिक्र है। जनश्रुति के अनुसार मक्का के मौलवियों ने अपने पूज्य पीरों को जब बाबा की ख्याति और उनके [[अलौकिक]] चमत्कार के बारे में बताया तो वे पीर बाबा की शक्ति को परखने के लिए मक्का से रुणिचा आए। बाबा के घर जब पांचो पीर खाना खाने बैठे तब उन्होंने बाबा से कहा की वे अपने खाने के बर्तन (सीपियाँ) मक्का ही छोड़ आए है और उनका [[प्रण]] है कि वे खाना उन सीपियों में खाते है तब बाबा रामदेव ने उन्हें विनयपूर्वक कहा कि उनका भी प्रण है कि घर आए अतिथि को बिना भोजन कराये नहीं जाने देते और इसके साथ ही बाबा ने [[अलौकिक]] चमत्कार दिखाया जो सीपी जिस पीर कि थी वो उसके सम्मुख रखी मिली।
 
बेनामी उपयोगकर्ता