"विकिपीडिया:आकलन" के अवतरणों में अंतर

23,508 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
छो
एस आर हरनोट (Talk) के संपादनों को हटाकर Godric ki Kothri के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
छो (एस आर हरनोट (Talk) के संपादनों को हटाकर Godric ki Kothri के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
'''आकलन''' विकिपीडिया पर लेखों की गुणवत्ता मापने की एक प्रक्रिया है। इसमें लेखों को उनकी गुणवत्ता के अनुसार मापा जाता है। आकलन का उद्देश्य है विभिन्न विषयों सम्बंधित लेखों की गुणवत्ता की जानकारी इकट्ठा करना ताकि सदस्य अपनी पसंद के विषयों के अपूर्ण लेखों में सुधार कर सकें, और ताकि विकिपीडिया की गुणवत्ता की जाँच और उसमें सुधार किये जा सकें।
 
== अक्सर पूछे जाने वाले सवाल ==
 
; लेख आकलन की ज़रूरत क्यों है?
: लेख आकलन इन चीज़ों के लिए उपयोगी हैः
:* हिन्दी विकिपीडिया पर लेखों की गुणवत्ता आंकने के लिए
:* इन लेखों पर काम को प्राथमिकता देने के लिए
:* विकिपीडिया की स्थिर/ऑफ़्लाइन रिलीज़ (सीडी, डीवीडी आदि) के लिए लेखों का चयन करने के लिए
 
; क्या ये आकलन/रेटिंग अधिकृत (official) है?
नामः एस. आर. हरनोट
: नहीं, ये रेटिंग मुख्य रूप से आंतरिक उपयोग के लिए हैं और विकिमीडिया संस्थान के आधिकारिक दृष्टिकोण को नहीं दर्शाती है।
 
; क्या कोई भी लेखों का आकलन कर सकता है?
जन्मः हिमाचल प्रदेश के जिला शिमला की तहसील सुन्नी में स्थित पिछड़ी पंचायत व गांव चनावग में 22 जनवरी, में 22 जनवरी, 1955 के दिन।
: जी हाँ. सामान्यतः, कोई भी व्यक्ति (आप भी!) लेखों की आकलन रेटिंग जोड़ या बदल सकता है। हालांकि, "प्रमुख" लेबल केवल [[विकिपीडिया:निर्वाचित लेख उम्मीदवार|समीक्षा और चर्चा]] के बाद ही इस्तेमाल किये जाने चाहिए। अगर रेटिंग के बारे में दो या अधिक लोगों की राय अलग हो तो चर्चा के द्वारा विवाद हल करें।
 
; मैं एक लेख का आकलन कैसे कर सकता/सकती हूँ?
शिक्षाः बी.ए (आनर्ज), एम.ए (हिन्दी), पत्रकारिता, लोक सम्पर्क एवं प्रचार-प्रसार में उपाधि पत्र।
: लेख के वार्ता पेज पर यह साँचा जोड़ें -
<pre>
{{विकिपीडिया आकलन
<!-- एक विकल्प चुनें -->
| दर्जा = आधार / प्रारम्भिक / मध्यम / अच्छे / श्रेष्ठ / प्रमुख
<!-- लेख के प्रमुख मसले जिन्हें हल करने की ज़रूरत है (अगर कोई मसला को लागू होता है, तो उसके आगे 1 लिख दें उदाहरण: अगर लेख में कोई भी फ़ोटो नहीं है, तो "चित्र_नहीं = 1" ) -->
| अनिष्पक्ष =
| अपूर्ण =
| असत्यापित_तथ्य =
| अस्तित्वहीन_श्रेणियाँ =
| अस्तित्वहीन_साँचे =
| अस्पष्ट_उल्लेखनीयता =
| खराब_फ़ॉर्मैटिंग =
| गलत_अनुवाद =
| गलत_वर्तनी =
| गैर_हिन्दी_शब्द =
| चित्र_नहीं =
| मूल_शोध =
| वैश्विक_नज़रिया_नहीं =
| सामयिक_नहीं =
<!-- लेख सुधारने के लिए अन्य सुझाव, जैसे "अन्य_सुझाव=इस लेख में से आत्म प्रचार वाली सामग्री निकालें"-->
| अन्य_सुझाव =
| आकलनकर्ता = ~~~~
}}
</pre>
 
; यदि मैं किसी दूसरे सदस्य द्वारा दिए गए दर्ज़े से सहमत नहीं हूँ तो?
प्रकाशित पुस्तकें
: बेझिझक हो कर दर्ज़े को बदल दें, लेकिन जायज़ कारण दें. विवादों के मामले में आम सहमति के लिए [[विकिपीडिया:चौपाल|अन्य सदस्यों से चर्चा करें]]।
 
; क्या इस तरह का आकलन आकलनकर्ता पर निर्भर नहीं है? क्या अलग-अलग लोगों के विचार अलग-अलग नहीं होंगे?
1 पंजा-कहानी संग्रह,ललित प्रकाशन,दिल्ली। वर्ष 1987.
: जी हाँ, आकलन कुछ हद तक व्यक्तिपरक है, लेकिन अन्य भाषाओं की विकिपीडिया पर यह अब तक की सबसे सफल प्रणाली साबित हुई है। यदि आप के पास कोई बेहतर विचार है, तो निःसंकोच हमें बताएँ।
2 आकाशबेल-कहानी संग्रह,ललित प्रकाशन,दिल्ली। वर्ष 1987
3 हिमाचल के मंदिर और उन से जुड़ी लोक कथाएं(लगभग 250 मन्दिरों पर शोध कार्य व लोक कथाएं) मिनर्वा बुक हाउस,शिमला। वर्ष 1991.
4 पीठ पर पहाड़-कहानी संग्रह,साहित्य संगम,इलाहाबाद। वर्ष 1992.
5 यात्रा (किन्नौर,स्पिति,लाहुल और मणिमहेश पर सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक यात्राएं। वर्ष 1987. मिनर्वा बुक हाउस,शिमला। वर्ष 1994.
6 हिमाचल एट ए ग्लांस-हिमाचल प्रदेश पर 3000 फैक्टस( संयुक्त कार्य), मिनर्वा बुक हाउस,शिमला। 2000.
7 दारोश तथा अन्य कहानियां- कहानी संग्रह, आधार प्रकाशन,पंचकूला,हरियाणा। 2001.
8 हिमाचल से जान-पहचान-इतिहास अभिषेक पब्लिकेशन,चण्डीगढ़.1996.
8 हिडिम्ब उपन्यास,आधार प्रकाशन,पंचकूला। 2004.
10 माफिया (सरोज वशिष्ट द्वारा अंग्रेजी में अनुदित 14 कहानियों का संग्रह सनबन पब्लिशर्ज,दिल्ली। 2004.
11 जीनकाठी तथा अन्य कहानियां-कहानी संग्रह, आधार प्रकाशन,पंचकूला,हरियाणा। 2008.
12 मिट्टी के लोग -कहानी संग्रह आधार प्रकाशन पंचकूला. 2010.
13 आधार चयन कहानियां-कहानी संग्रह, आधार प्रकाशन पंचकूला. 2012
14 लिटन ब्लाक गिर रहा है-कहानी संग्रह, आधार प्रकाशन 2014.
15 हिमाचल प्रदेशः मंदिर और लोकश्रुतियां (इतिहास, संस्कृति और पर्यटन पर पुस्तक) आभी प्रकाशन, शिमला हि0प्र0, 2016.
16 10 प्रतिनिधि कहानियां-कहानी संग्रह, किताबघर प्रकाशन,दिल्ली। 2017.
17. नदी गायब है – एस आर हरनोट, पर्यावरणीय चेतना की कहानियां: सम्पादन-डॉ. उषा रानी राव.
 
; मुझे एक आधार लेख मिला, मैं क्या करूँ?
सम्मान एवं पुरस्कार
: आप उसे सुधार सकते हैं! जी हाँ, विकिपीडिया पर आप संपादन कर सकते हैं। आप चाहें तो बेहतर संपादन सीखने के लिये [[वि:स्वशिक्षा|स्वशिक्षा]] ले सकते हैं और [[वि:प्रयोगस्थल|प्रयोगस्थल]] पर संपादन का जितना चाहें अभ्यास कर सकते हैं।
 
1 ‘दारोश तथा अन्य कहानियां’ पुस्तक के लिए वर्ष 2003 का अन्तरराष्ट्रीय इन्दु शर्मा कथा सम्मान (लंदन में सम्मानित) तथा 2007 में हिमाचल राज्य अकादमी पुरस्कार।
2 ‘जीनकाठी तथा अन्य कहानिया‘ संग्रह के लिए वर्ष 2009 का पाखी तथा इंडिपेंडेंट मीडिया इनिशिएटिव सोसाइटी, दिल्ली द्वारा जे.सी जोशी शब्द साधक जनप्रिय लेखक सम्मान।
3 ‘मिट्टी के लोग‘ कहानी संग्रह के लिए वर्ष 2012 का प्रथम जगदीश चन्द्र स्मृति सम्मान।
4 पर्यटन और साहित्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान हेतु हिमाचल पर्यटन विकास निगम द्वारा ‘पर्यटन एवं साहित्य सम्मान-2009.
5 क्र्रिएटिव न्यूज फाउण्डेशन, दिल्ली द्वारा विशिष्ठ साहित्यकार सम्मान।
6 अखिल भारतीय भारतेन्दु हरिश्चन्द्र एवार्ड।
7 हिमाचल केसरी एवार्ड।
8 हिमाचल प्रदेश राजकीय अध्यापक संघ, हमीरपुर द्वारा साहित्यकार सम्मान।
9 प्राचीन कला केन्द्र चण्डीगढ़ द्वारा श्रेष्ठ साहित्य सम्मान।
10 मालवा रंगमंच समिति और कृतिका काम्यूनिकेशन मुम्बई द्वारा 2010 का ’हिन्दी सेवा सम्मान'.
11 दैनिक समाचार पत्र दिव्य हिमाचल(हिमाचल दिस वीक) द्वारा फिक्शन राइटर आफ द ईयर के तहत् हिमाचल एक्सेलैंस एवार्ड-2015.
 
विविध विश्वविद्यालयों के पाठ्यक्रमों में कहानियां
 
• केरल विश्वविद्यालय में एम0ए0पार्ट-11 के पाठ्यक्रम में कहानी ‘मां पढ़ती है‘ तथा केरल सरकार, शिक्षा विभाग के उच्च माध्यमिक पाठ्यक्रम में कहानी ‘एम.डाट. काम‘ शामिल।
• केन्द्रीय विश्वविद्यालय धर्मशाला के पी0एच0डी0 अंग्रेजी पाठ्यक्रम और हिमाचल पद्रेश विश्वविद्यालय के बी0ए0 पार्ट-11 में कहानी ‘लाल होता दरख्त‘ का अंग्रेजी अनुवाद ‘द रैडनिंग ट्री‘ शामिल।
• गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय नोएडा के ला पाठ्यक्रम में कहानी ‘चश़्मदीद‘ शामिल।
• जैन यूनिवर्सिटी, बंगलूरू (कर्नाटक) में कहानी ‘आभी‘ का बी.काम, बी.एस.सी और बी.बी.एम के छात्रों के लिए विशेष रूप से तैयार किए गए 2016-2019 तक के हिदी पाठ़यक्रम में चयन।
• आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रैस द्वारा प्रकाशित 6वीं, 7वीं और 8वीं कक्षा के लिए निर्मित पाठ्यक्रम विभव हिंदी पाठमाला में कहानी मां पढ़ती है शामिल।
• सैन्ट्रल यूनिवर्सिटी पंजाब में कहानी पत्थर का खेल और हक्वाई एम0ए0 के पाठ्यक्रम में शामिल।
 
शोधः एम.फिल और पी.एच.डी के लिए विभिन्न विश्वविद्यालयों मे शोध।
एम.फिल
 
1. एस.आर.हरनोट के उपन्यास हिडिम्ब में व्यक्त कथ्यः हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालयः शोधकर्ता-कुमारी मनोरमाः निर्देशक-प्रो0 कुमार कृष्ण। वर्ष-2007-2008.
2. एस.आर.हरनोट के कहानी संग्रह दारोश तथा अन्य कहानियां में व्यक्त कथ्यः हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालयः शोधकर्ता-कुमारी सुनीता देवीः निर्देशक-प्रो0 कुमार कृष्ण। 2006-2007.
3. एस.आर.हरनोट के कहानी संग्रह पीठ पर पहाड़ का कथ्य एवं शिल्पः हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालयः शोधकर्ता-कुमारी अंजु चैहानः निर्देशक-प्रो0 कुमार कृष्ण। 2006-2007.
4. एस.आर.हरनोट के उपन्यास हिडिम्ब में सामाजिक यथार्थः ए0एस0 महाविद्यालय खन्ना, पंजाबः शोधकर्ता-सुश्री सोनिका रानीः निर्देशिका-डाॅ0 मीना रानी। 2008-2009.
5. हरनोट की कहानियों में आंचलिकताः हि0 प्र0 विश्वविद्यालयः शोधकर्ता-सुश्री शालिनी बिष्टः निर्देशक-डाॅ0 डीसी पराशर, प्राचार्य सनातन धर्म विश्वविद्यालय बैजनाथ, कांगड़ा। 2005-2006.
6. हिडिम्ब उपन्यास का सामाजिक सन्दर्भः हैदराबाद विश्वविद्यालयः शोध छात्र-भरत बोंद्यालोः निर्देशक-प्रो0. वी.कृष्ण।
7. एस.आर.हरनोट की कहानियों में चित्रित यथार्थः हैदराबाद विश्वविद्यालयः शोधकर्ता-अतुल कुमार पांडेः निर्देशक- प्रो0 सच्चिदानंद चतुर्वेदी।
8. एस.आर.हरनोट की कहानियों में हाशिए का समाजः हैदराबाद विश्वविद्यालयः शोधकर्ता-संग्राम राठौरः निर्देशक-प्रो0 वि. कृष्ण।
9. एस.आर.हरनोट के कहानी संग्रह जीनकाठी तथा अन्य कहानियां में लोक संस्कृतिः पंजाबी विश्वविद्यालय पटियालाः शोधछात्रा- कुमारी हीना सिंगलाः निर्देशक-डाॅ0 राजेन्द्र सेन। 2010-2011.
10. एस.आर.हरनोट के उपन्यास हिडिम्ब पर शोधः कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालयः शोधकर्ता-श्री रमेश कुमार।
11. एस.आर.हरनोट के कहानी संग्रह मिट्टी के लोग में व्यक्त कथ्यः हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालयः शोधछात्रः थुपतन गैसोः निर्देशक-डा0 शेखर शर्मा।
12. एस.आर.हरनोट के उपन्यास हिडिम्ब में व्यक्त सांस्कृतिक चेतनाः हि0प्र0 विश्वविद्यालयः शोध छात्र--श्री अरूण कुमार, कुफरी शिमला, हि0प्र0. 2016-2017
13. एस0 आर0हरनोट की कहानियों में देवतंत्रःसामाजिक एवं सांस्कृतिक परिप्रेक्ष्यः जीनकाठी तथा अन्य कहानियां: हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालयः शोध छात्रा-कुमारी सवीना जहां, रोहडू शिमला, हि0प्र0. 2017
 
पी.एच.डी
 
1. एस.आर.हरनोट के कथा साहित्य में सामाजिक चिन्तनः जीवाजी विश्वविद्यालय, ग्वालियर, मध्य प्रदेशः शोधकर्ता-सुश्री नीति तिवारीः निर्देशक-डा0 पदमा शर्मा.
2. Depiction of Dalit voices in literature: A Comparative Study of Short Stories of Om Prakash Valmiki and S.R.Harnot---by Chitra Singh from Central University, Punjab: Guide-Dr.Rajendra Sen.
3. पर्यावरण चेतना के सन्दर्भ में एस.आर.हरनोट के साहित्य का अध्ययनः पंजाब विश्वविद्यालय चंडीगढ़ः शोधकर्ता-सुश्री सुनीता शर्मा। निर्देशक-डा0 गुरमीत सिंह।
4. एस.आर.हरनोट का कथा साहित्यः विश्लेषणात्मक अध्ययनः केरल विश्वविद्यालयः शोधकर्ता-सुश्री लज्जा राजेश पी0वी0। गाइड-डा0 प्रकाश ए.
5. गुरुकाशी विश्वविद्यालय सावो;भटिंडारू शोध छात्रा गुरप्रीत कौरण् ष्एस आर हरनोट के कथा साहित्य में विभिन्न सरोकाररू सामाजिकए दलित और पर्यावरण.
 
लघु फिल्में
 
• दारोश कहानी पर दिल्ली दूरदर्शन द्वारा ’इंडियन क्लासिक्स सीरीज के तहत्’ फिल्म का निर्माण व प्रसारण।
• मुट्ठी में गांव काहानी पर अदाकार मुम्बई द्वारा फिल्म निर्माणाधीन.
• लाल होता दरख़्त कहानी पर फिल्म निर्माता डा0 देवकन्या ठाकुर द्वारा लघु फिल्म का निर्माण।
• कीलें और कालिख कहानियों पर लघु फिल्में निर्माणाधीन.
 
 
नाट्य मंचन
• कहानी ‘बेजुबान दोस्त‘ का प्रख्यात अभिनेता अनुपम खेर की मुम्बई स्थित संस्था ‘एक्टर प्रिपेयर्ज‘ द्वारा वर्ष 2013 में शिमला के ऐतिहासिक गेयटी थियेटर में दो बार मंचन।
• कहानी ‘बिल्लियां बतियाती है‘ का शिमला स्थित ‘अब थियेटर ग्रुप‘ द्वारा गेयटी थियेटर सहित प्रदेश के विभिन्न जिलों में कई मंचन।
• शिमला के ‘समन्वय थियेटर‘ द्वारा कहानी ‘शुरूआत‘ के कई मंचन।
• ‘जीनकाठी‘ और ‘दलित देवता सवर्ण देवता‘ कहानियों का ‘बजन्तरी‘ नाटक शीर्षक से ‘रंगप्रिया थियेटर सोसायठी‘ द्वारा रूपान्तरण और मंचन साथ आभी कहानी का मंचन भी।
• कहानी ‘आभी‘ का हरियाणा की ‘शुरूआत समिति‘ द्वारा नाट्य रूपान्तरण और कई मंचन।
• 'नदी गायब है' कहानी पर शिमला की रंगमंच संस्था 'अभिनावे दर्पण' द्वारा भारत भवन भोपाल में मंचन.
 
 
हिन्दी, अंग्रेजी तथा अन्य भाषाओं की कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकों और संकलनों में कहानियां तथा आलोचना आलेख
 
1 हिडिम्ब उपन्यास पर शोध लेख--समय समाज और उपन्यास, प्रो0 मधुरेश, ज्ञानपीठ से प्रकाशित.
2 हिडिम्ब पर शोध लेख--उपन्यास की महान परम्परा,डा0 खगेन्द्र ठाकुर, स्वराज प्रकाशन, दिल्ली.
3 बिल्लियां बतियाती है (कहानी)--कथा में पहाड़,श्रीनिवास श्रीकान्त-संवाद प्रकाशन.
4 बिल्लियां बतियाती है(काहानी)--श्रेष्ठ हिन्दी कहानियां 1990-2000, उमाशंकर चैधरी, ज्योति चावला, पीपुल्स पब्लिशिंग हाउस प्रा0लि0, दिल्ली.
5 मुट्ठी में गांव(कहानी)--कथा में गांव सुभाषचंद्र कुशवाहा-संवाद प्रकाशन.
6 एम.डाट.काम (कहानी)--हिन्दी की क्लासिक कहानियां, पुष्पपाल सिंह-हार्परकालिंस पब्लिशर्ज इंडिया, नयी दिल्ली.
7 सवर्ण देवता दलित देवता(कहानी)-- कथा दशक, सूरज प्रकाश-मेधा बुक्स, दिल्ली.
8 दारोश(कहानी)-- 1997 की श्रेष्ठ हिन्दी कहानियां, महीप सिंह-हिन्दी बुक सैन्टर,दिल्ली.
9 सवर्ण देवता दलित देवता(कहानी)--जातिदंश की कहानियां, सुभाषचंद्र कुशवाहा--सामायिक प्रकाशन, नयी दिल्ली.
10 कागभाखा(कहानी)—हिमाचल हिन्दी कहानी के सौ वर्ष, सुशील कुमार फुल्ल-हिमाचल कला,संस्कृति एवं भाषा अकादमी।
11 छब्बीसवां निशान(कहानी)--हिमाचल की प्रतिनिधि कहानियां, राजेन्द्र राजन-भावना प्रकाशन, दिल्ली.
13 मुट्ठी में गांव(कहानी)--हिन्दी की श्रेष्ठ दलित कहानियां, आर.एच.बणकर-रचना प्रकाशन.
14 रिसती हुई बर्फ(कहानी)--सैनिक कहानियां, हरेन्द्र सिंह भदौरिया- विकास पब्लिशिंग हाउस.
15 जंग जारी है(कहानी)--कुंआरी बहु, सरोज वशिष्ठ-हिन्द पाकेट बुक्स, दिल्ली.
16 लाल होता दरख्त(कहानी)—दस्तक, श्रीनिवास जोशी-अनुराग प्रकाशन, दिल्ली.
17 मां पढ़ती है (Ma Reads), Grey Areas & An Anthology of Indian Fiction on Ageing-Ira Raja-Oxford University Press.
18 M.Dot.Com (एम.डॉट.कॉम. कहानी का अंग्रेजी अनुवाद)--Great Hindi short Stories,Ravi Nandan Sinha – Anubhuti Foundation Mission, New Delhi.
19. The Redenning Tree (लाल होता दरख्त काहानी का अंग्रेजी अनुवाद)---Short Stories of Himachal Pradesh & Life Unfolded (Oxford), Meenakshi F. Paul- Indus Publishing Company & Oxford University Press.
20 कहानियों का जिक्र--हिन्दी साहित्य का इतिहास , डा0 सुशील कुमार फुल्ल-भूपति प्रकाशन, दिल्ली.
21 पंजा कहानी संग्रह--हिन्दी कहानी--स्थिति एवं गति, डा0 हेमराज कौशिक-विभूति प्रकाशन दिल्ली.
22 दारोश कहानी संग्रह--कथालोचन के नये प्रतिमान, गौतम सान्याल-नई किताब दिल्ली.
23 शुरूआत कहानी--समय गवाह है, डा0 सुभाष रस्तोगी-प्रतिमान प्रकाशन.
24 हिडिम्ब और दारोश का जिक्र--हिन्दी साहित्य का दूसरा इतिहास.2006, डा0 बच्चन सिंह-राधाकृष्ण प्रकाशन.
25 सदी के अंत में हिमाचल की हिन्दी कहानी--कहानी के नये प्रतिमान, कुमार कृष्ण-वाणी प्रकाशन.
26 दारोश कहानी--खूबसूरत शहर और चीखें, सैली बलजीत-अरूण प्रकाशन, नई दिल्ली.
27 किन्नर कहानी--हिमाचल की लोकधर्मी हिन्दी कहानियां, महिन्द्रा पब्लिशिंग हाउस, चण्डीगढ़.
28 कहानीः पत्थर का खेलः सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और पत्थरों का खेल , डा0 रोहिणी अग्रवालः वाणी प्रकाशन,दिल्ली.
29 कहानियों पर आलेखःगहरे अंधेरे में पांव न लगी पगडंडी से आ जाना, कहानी की अन्दरूनी सतह, शंभु गुप्तः वाणी प्रकाशन, दिल्ली.
30 कहानियों पर आलेखः हरनोट की कहानियों में गांव और घर में अकेली मां कथा विवेचन का आलोक सूरज पालीवालः वाणी प्रकाशन
31 हिडिम्ब पर आलेखः जनतंत्र की राजशाही संस्कृति, जमीन की तलाश में, तरसेम गुजरालः अमन प्रकाशन।
32 कहानी पर आलेख --पाठक का रोजनामचा, उमाशंकर सिंह परमार, लोकोदय प्रकाशन लखनऊ।
 
विविध कार्य
 
6. फोटोग्राफी में विशेष रूचि और कई प्रदर्शनियों के आयोजन।
7. हिन्दी साहित्य की लधु पत्रिकाओं के प्रचार-प्रसार में सक्रिय सहयोग।
8. हिमालय साहित्य, संस्कृति एवं पर्यावरण मंच की स्थापना और कई राज्य व अखिल भारतीय साहित्य सम्मेलनों का आयोजन।
9. ग्रामीण क्षेत्र में दलित व अन्य वर्ग तथा क्षेत्र के विकास के लिए ग्रामीण विकास सभा की स्थापना व अनेक कार्यक्रमों का आयोजन तथा निरन्तर कार्य।
10. शिमला दूरदर्शन व आकाशवाणी शिमला से समय≤ पर रचनाएं प्रसारित व अनेक कार्यक्रमों में भाग।
11. इन्टरनेट की विभिन्नि हिन्दी व अंग्रेजी की साइटों पर रचनाएं प्रकाशित।
12. हिडिम्ब उपन्यास और कहानी संग्रह लिटन ब्लाक गिर रहा है का शिमला एफ.एम और आकाशवाणी से वर्ष 2015 में श्रृंख्लाबद्ध प्रसारण।
 
 
अंग्रेजी तथा भारतीय व विदेशी भाषा में कहानियों और पुस्तकों के अनुवाद
 
• 23 कहानियां अंग्रेजी भाषा में जिसमें 14 कहानियों का माफिया नाम से संकलन शामिल है।
• मराठी भाषा में दो कहानियां।
• गुजराती भाषा में 7 कहानियां.
• रूसी में एक कहानी।
 
सरकारी सेवाएं
 
• हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम सीमित में वर्ष 1977 से 2013 तक विभिन्न पदों पर कार्य और जनवरी, 2013 में उप महा प्रबन्धक(सूचना एवं प्रचार) के पद से सेवामुक्त।
सम्प्रति
 
• स्वतन्त्र लेखन एवं हिन्दी के प्रचार प्रसार के लिए निरन्तर कार्य के साथ समाज सेवा।
स्थायी पता:
 
शिमलाः साहित्य कुञ्ज, मारलब्रो हाउस, धरातल मंजिल, हिमाचल सचिवालय के समीप, छोटा शिमला-171002 हि0प्र0। फोन-0177-2625092, मो0 098165 66611, गांवः गांव व डाकखाना-चनावग, तहसील सुन्नी, वाया धामी-171103, जिला
 
== गुणवत्ता माप ==