"भारतीय दण्ड संहिता" के अवतरणों में अंतर

→‎अध्याय २०: कड़ियाँ लगाई
छो (49.201.227.100 (Talk) के संपादनों को हटाकर 106.202.27.186 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(→‎अध्याय २०: कड़ियाँ लगाई)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
* '''धारा ४९२''' दूर वाले स्थान पर सेवा करने का संविदा भंग जहां सेवक को मालिक के खर्चे पर ले जाया जाता है।
लजज ==अध्याय २०==
;विवाह से सम्बन्धित अपराध
* '''धारा ४९३''' विधिपूर्ण विवाह का धोखे से विश्वास उत्प्रेरित करने वाले पुरुष द्वारा कारित सहवास।
बेनामी उपयोगकर्ता