"प्याज़े का संज्ञानात्मक विकास सिद्धान्त" के अवतरणों में अंतर

छो
2409:4053:607:6CB0:FC38:FF59:A89F:C918 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2405:204:A2AC:FFEC:D8E4:DE35:89FA:E60F के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
छो (2409:4053:607:6CB0:FC38:FF59:A89F:C918 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2405:204:A2AC:FFEC:D8E4:DE35:89FA:E60F के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
=== संवेदी पेशीय अवस्था ===
इस अवस्था में बालक केवल अपनी संवेदनाओं और शारिरीक क्रियाओं की सहायता से ज्ञान अर्जित करता है। बच्चा जब जन्म लेता है तो उसके भीतर सहज क्रियाएँ (Reflexes) होती हैं। इन सहज क्रियाओं और ज्ञानन्द्रियों की सहायता से बच्चा वस्तुओं ध्वनिओं, स्पर्श, रसो एवं गंधों का अनुभव प्राप्त करता है और इन अनुभवों की पुनरावृत्ति के कारण वातावरण में उपस्थित उद्दीपकों की कुछ विशेषताओं से परिचित होता है।
 
¤ उन्होने इस अवस्था को छः उपवस्था मे बाटा है ~
14,096

सम्पादन