"दशहरा" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् जोड़े गए ,  11 वर्ष पहले
दशहरे का उत्सव शक्ति और शक्ति का समन्वय बताने वाला उत्सव है। नवरात्रि के नौ दिन जगदम्बा की उपासना करके शक्तिशाली बना हुआ मनुष्य विजय प्राप्ति के लिए तत्पर रहता है। इस दृष्टि से दशहरे अर्थात विजय के लिए प्रस्थान का उत्सव का उत्सव आवश्यक भी है।
 
भारतीय संस्कृति सदा से ही वीरता व शौर्य की समर्थक रही है।{{Ref_label|शौर्य|ग|none}} प्रत्येक व्यक्ति और समाज के रुधिर में वीरता का प्रादुर्भाव हो कारण से ही दशहरे का उत्सव मनाया जाता है। यदि कभी युद्ध अनिवार्य ही हो तब शत्रु के आक्रमण की प्रतीक्षा ना कर उस पर हमला कर उसका पराभव करना ही कुशल राजनीति है। भगवानरामभगवान राम के समय से यह दिन विजय प्रस्थान का प्रतीक निश्चित है। भगवान राम ने रावण से युद्ध हेतु इसी दिन प्रस्थान किया था। मराठा रत्न [[शिवाजी]] ने भी [[औरंगजेब]] के विरुद्ध इसी दिन प्रस्थान करके हिन्दू धर्म का रक्षण किया था। भारतीय इतिहास में अनेक उदाहरण हैं जब हिन्दू राजा इस दिन विजय-प्रस्थान करते थे।<ref>[http://hindi.webdunia.com/religion/occasion/vijayadashami/0710/19/1071019026_1.htm विजय की प्रतीक विजयादशमी]वेब दुनिया पर</ref>
{{-}}
{{हिन्दू पर्व-त्यौहार}}