"सलीम तृतीय": अवतरणों में अंतर

6 बाइट्स हटाए गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
No edit summary
No edit summary
'''सलीम तृतीय''' (उस्मानी तुर्कीयाई: سليم ثالث सेलिम''-इ <u>सालिस</u>'') <span dir="ltr">(24 दिसम्बर 1761 &ndash; 28 जुलाई 1808)</span> 1789 से 1807 तक [[उस्मानी साम्राज्य]] के सुल्तान रहे। अपने सुधारवादी नीतियों की वजह से [[यनीचरी|यनीचरियों]] ने उन्हें बंदी बना लिया और अंत में उनकी हुकूमत को तख़्तापलट किया गया था। बाद में यनीचरियों ने उनके चचेरे भाई [[मुस्तफ़ा चतुर्थ]] को तख़्त पर बिठा दिया। अनजान हत्यारों द्वारा सलीम की हत्या की गई थी।
 
सलीम तृतीय [[मुस्तफ़ा तृतीय]] और महरशाह सुल्तान के बेटे थे। उनकी माँ [[जॉर्जिया]] में पैदा हुई और [[वालिदा सुल्तान]] के ओहदे संभालती हुई वे हुकूमती शालाओं के सुधार आंदोलन में शामिल थीं। सलीम तृतीय के पिता सुल्तान मुस्तफ़ा तृतीय बहुत शिक्षित थे और उनका मानना था कि साम्राज्य में सुधार आंदोलन चलाना निहायत ज़रूरी थी। शिक्षित और क़ाबिल सिपाहियों के साथ उन्होंने एक ताक़तवर सेना बनाने की कोशिश की। उन्होंने सेना पर ज़ोर दिया क्योंकि उनका डर था कि रूसी साम्राज्य की ओर से उस्मानिया पर आक्रमण हो जाएगा। रूसियों और उस्मानियों के 1774 युद्ध के दौरान [[दिल का दौरा|दिल के दौरे]] की वजह से उनकी मौत हुई। सुल्तान मुस्तफ़ा जानते थे कि सेना में सुधार लाने की निहायत ज़रूरत थी। उन्होंने नई सैन्य विधियाँ क़ायम की और उन्होंने नई समुद्री और तोपख़ाने अकादमियों काकी स्थापना किया।की।
 
सुल्तान मुस्तफ़ा पर [[रहस्यवाद]] का गहरा असर रहा। उनके भविष्यवक्तों के मुताबिक़ उनके बेटे सलीम जहान पर फ़तेह करेंगे और इसकी ख़ुशी में उन्होंने सात दिनों की शानदार दावत का इंतज़ाम किया। राजमहल में ही सलीम की शिक्षा हुई। सुल्तन मुस्तफ़ा ने सलीम को अपने वलीअहद के तौर पर नियुक्त किया लेकिन मुस्तफ़ा की मौत के बाद सलीम के चाचा अब्दुल हमीद प्रथम तख़्त पर बिठाया गया था।