"बुर्ज ख़लीफ़ा" के अवतरणों में अंतर

10,071 बैट्स् नीकाले गए ,  3 वर्ष पहले
छो
(।जय महलवाल।) (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 3953781 को पूर्ववत किया
छो (2409:4052:89E:5284:0:0:2B15:60A0 (Talk) के संपादनों को हटाकर (।जय महलवाल।) के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
छो ((।जय महलवाल।) (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 3953781 को पूर्ववत किया)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
}}
'''बुर्ज ख़लीफ़ा''' [[दुबई]] में आठ अरब डॉलर की लागत से छह साल में निर्मित ८२८ मीटर ऊँची १६८ मंज़िला दुनिया की सबसे ऊँची इमारत है (जनवरी, सन् २०१० में)। इसका लोकार्पण [[४ जनवरी]], [[२०१०]] को भव्य उद्घाटन समारोह के साथ किया गया। इसमें तैराकी का स्थान, खरीदारी की व्यवस्था, दफ़्तर, सिनेमा घर सहित सारी सुविधाएँ मौजूद हैं। इसकी ७६ वीं मंजिल पर एक मस्जिद भी बनायी गयी है। इसे ९६ किलोमीटर दूर से भी साफ़-साफ़ देखा जा सकता है। इसमें लगायी गयी लिफ़्ट दुनिया की सबसे तेज़ चलने वाली लिफ़्ट है। “ऐट द टॉप” नामक एक दरवाज़े के बाहर अवलोकन डेक, 124 वीं मंजिल पर, 5 जनवरी 2010 पर खुला। यह 452 मीटर (1,483 फुट) पर, दुनिया में तीसरे सर्वोच्च अवलोकन डेक और दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा दरवाज़े के बाहर अवलोकन डेक है।
 
इससे जुड़ी दिलचस्प बात यह भी है कि इस इमारत के निर्माण के समय इसका नाम बुर्ज दुबई था लेकिन बिल्डिंग को वित्तीय सहायता देने वाले संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन जायेद अल नाहयान के सम्मान में उद्घाटन के समय इस बिल्डिंग का नाम बुर्ज दुबई से बुर्ज खलीफा कर दिया गया।
 
यह इस्लामिक आर्किटेक्चर का बेहतरीन नमूना है। दुनिया की सबसे ऊंची इमारत का खिताब अपने नाम करने वाली दुबई की ये बिल्डिंग विजनरी आइडिया और साइंस का बेहतरीन कॉम्बिनेशन है। बुर्ज खलीफा बेजोड़ इंजीनियरिंग का नायाब नमूना है। इमारत के निर्माण में लगभग 12,000 मजदूरों ने प्रतिदिन काम किया। इमारत की बाहरी क्लैडिंग 26000 ग्लास पैनलों से बनी है। शीशे के इन आवरण के लिए चीन से खासतौर पर 300 क्लैडिंग स्पेशलिस्टों को बुलाया गया था।
 
== बुर्ज खलीफा के बारे में ==
बुर्ज खलीफा का नाम तो आपने सुना ही होगा, दुबई में स्थित बुर्ज खलीफा दुनिया की सबसे ऊंची बिल्डिंग है. आज हम आपको इसके बारे में बताएंगे।
 
बुर्ज खलीफा की ऊंचाई 828 मीटर यानी की 2716.5 फीट है. यानी की एफिल टॉवर से करीब तीन गुना ज्यादा है.
 
बुर्ज खलीफा को बनाने में करीब 1.5 बिलियन डॉलर खर्च हुआ है.
 
बुर्ज खलीफा में कुल 163 मंजिल है, जिसमें 58 लिफ्ट और 2957 पार्किंग स्पेस, 304 होटल और 900 अपार्टमेंट्स है.
 
बुर्ज खलीफा को पहले बुर्ज दुबई कहा जाता था, बाद में यहां के राष्ट्रपति खलीफा बिन जायेद अल नह्हान के सम्मान में इसका नाम बुर्ज खलीफा कर दिया गया.
 
बुर्ज खलीफा के मानिल ईमार ने इसका प्रस्ताव साल 2003 में रखा था. जिसका काम साल 2004 में शुरू हुआ और ये 2010 में बनकर तैयार हुआ.
 
बुर्ज खलीफा को करीब 12,000 मजदूरों ने मिलकर बनाया.
 
इसे बनाने में 100,000 हाथियों के बराबर कंक्रीट और पांच A380 हवाई जहाज के बराबर एल्युमीनियम लगा है.
 
बुर्ज खलीफा में एक समय में करीब 35000 लोगों के रहने की व्यवस्था है.
 
बुर्ज खलीफा इतना बड़ा है कि इसे आप 95 किलो मीटर दूर से भी देख सकते हैं. इसकी चोटी से पड़ोसी देश ईरान भी दिखता है.
 
बुर्ज खलीफा में 946,000 लीटर पानी को 100 किलो मीटर पाइप की सहायता से पहुंचाया जाता है.
 
बुर्ज खलीफा के 76वें मंजिल पर सबसे ऊंचा स्विमिंग पूल और 122वें मंजिल पर रेस्टोरेंट है.
 
बुर्ज खलीफा के नाम 6 वर्ल्ड रिकॉर्ड है, सबसे ऊंची बिल्डिंग, सबसे ज्यादा मंजिल, सबसे ऊंची लिफ्ट आदि.
 
इसमें 37 ऑफिस फ्लोर और 900 अपार्टमेंट हैं.
 
बुर्ज खलीफा में लगे AC से जितना पानी एक साल में निकलता है उससे ओलंपिक के पांच स्विमिंग पूल भरे जा सकते हैं.
 
जमीन से 210 मीटर की ऊंचाई पर 25 मीटर की चौड़ाई का हेलिपैड भी बनाया गया है जिस पर हेलीकॉप्टर उतारा जा सकता है.
 
== निर्माण ==
[[चित्र:Burj_Dubai_Under_Construction_on_16_May_2008.jpg|अंगूठाकार|१६ मई २००८ को निर्माणाधीन ईमारत |पाठ=|बाएँ]]'''*''' इस इमारत को बनाने में 8 अरब डॉलर का खर्च आया।
 
'''*''' इसका प्राइमरी स्ट्रक्चर मजबूत कंक्रीट का बना है। इसके निर्माण में 330,000 क्यूबिक मीटर कंक्रीट और 55,000 टन स्टील का इस्तेमाल हुआ। 45,000 क्यूबिक मीटर कंक्रीट का इस्तेमाल सिर्फ बिल्डिंग की नींव बनाने में ही हुआ।
 
'''*''' इसके निर्माण में 3 टॉवर क्रेनों का इस्तेमाल किया गया। एक क्रेन 25 टन का वजन उठाने में सक्षम थी।
 
'''*''' नींव के लिए 1.5 मीटर डायमीटर वाले 43 मीटर लंबे 192 पाइल्स बनाए गए। ये जमीन में 50 मीटर गहराई तक बनाए गए।
 
'''*''' दुबई की भीषण गर्मी का सामना करने के लिहाज से इसकी क्लैडिंग तैयार की गई। बुर्ज खलीफा की बाहरी क्लैडिंग के लिए 26000 ग्लास पैनल इस्तेमाल किए गए। इसके लिए चीन से 300 क्लैडिंग स्पेशलिस्ट बुलाए गए थे और लगभग 12000 हजार मजदूरों ने प्रतिदिन काम किया। वहीं टॉप फ्लोर का तापमान ग्रांउड फ्लोर की तुलना में 15 डिग्री कम रखा गया।
 
== विशेषता ==
 
* बुर्ज खलीफा की ऊंचाई 828 मीटर यानी की 2716.5 फीट है.
* बुर्ज खलीफा में एक समय में करीब 35000 लोगों के रहने की व्यवस्था है
* जमीन से 210 मीटर की ऊंचाई पर 25 मीटर की चौड़ाई का हेलिपैड भी बनाया गया है जिस पर हेलीकॉप्टर उतारा जा सकता है
* इस इमारत की लिफ्ट 65 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलती है और इमारत के 124वें तल पर स्थित अवलोकन डेक 'एट द टॉप' तक मात्र दो मिनट में पहुंच जाती है. इस अवलोकन डेक पर टेलीस्कोप से पर्यटक दुबई का नजारा देख सकते हैं.
* .ऊंचाई के कारण इमारत के टॉप फ्लोर पर तापमान ग्रगउंड फ्लोर की अपेक्षा 15 डिग्री सेल्सियस कम रहता है.
* इमारत के 76वें तल पर दुनिया का सबसे ऊंचा स्वीमिंग पूल और 158वें तल पर दुनिया की सबसे ऊंची मस्जिद और 144वें तल पर दुनिया का सबसे ऊंचा नाइटक्लब है
 
== विवाद ==
 
यह इमारत विवादों के घेरे में भी रही है. मानवाधिकार संगठनों ने आरोप लगाया था कि इमारत के निर्माण में अधिकतर मजदूर दक्षिण एशिया के थे और उन्हें मात्र पांच डॉलर दिहाड़ी मजदूरी दी गई थी. इसके अलावा इसे ठंडा रखने के लिए एसी में खर्च होने वाली बिजली पर भी सवाल उठाए गए थे.
 
[[चित्र:BurjKhalifaHeight.png|अंगूठाकार|450x450पिक्सेल|बुर्ज खलीफा की तुलना में कुछ अन्य प्रसिद्ध संरचनाएँ ]]
[[चित्र:Burj_Dubai_Under_Construction_on_16_May_2008.jpg|अंगूठाकार|१६ मई २००८ को निर्माणाधीन ईमारत |पाठ=|बाएँ]]'''*''' इस इमारत को बनाने में 8 अरब डॉलर का खर्च आया।
 
==सन्दर्भ==
{{टिप्पणी सूची}}
 
==बाहरी कड़ियाँ==
{{टिप्पणी सूची}}{{Commons category|Burj Khalifa|बुर्ज ख़लीफ़ा}}
* {{Official website|http://www.burjdubai.com}}