"शुंग राजवंश" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
छो
2405:204:A296:93F9:250A:EBD1:F96A:D011 (Talk) के संपादनों को हटाकर Godric ki Kothri के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
छो (2405:204:A296:93F9:250A:EBD1:F96A:D011 (Talk) के संपादनों को हटाकर Godric ki Kothri के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
अग्निमित्र के बाद वसुज्येष्ठ राजा हुआ।
 
=== वसुमिOFLLDLवसुमित्र ===
शुंग वंश का चौथा राजा वसुमित्र हुआ। उसने यवनों को पराजित किया था। एक दिन नृत्य का आनन्द लेते समय मूजदेव नामक व्यक्‍ति ने उसकी हत्या कर दी। उसने १० वर्षों तक शासन किया।
वसुमित्र के बाद भद्रक, पुलिंदक, घोष तथा फिर वज्रमित्र क्रमशः राजा हुए। इसके शाशन के १४वें वर्ष में तक्षशिला के यवन नरेश एंटीयालकीड्स का राजदूत हेलियोंडोरस उसके विदिशा स्थित दरबार में उपस्थित हुआ था। वह अत्यन्त विलासी शाशक था। उसके अमात्य वसुदेव ने उसकी हत्या कर दी। इस प्रकार शुंग वंश का अन्त हो गया।