"आर्माडिलो": अवतरणों में अंतर

2,499 बाइट्स हटाए गए ,  4 वर्ष पहले
छो
Jayanti lal pratihar bajarangi (Talk) के संपादनों को हटाकर Hunnjazal के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (Jayanti lal pratihar bajarangi (Talk) के संपादनों को हटाकर Hunnjazal के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
 
[[श्रेणी:लुढ़कने-वाले प्राणी]]
भास्कर न्यूज | सिरोही
पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया
पर एक अनोखे जानवर का वीडियो
वायरल हो रहा है, जिसे आबूरोड में
पाए जाने का दावा किया जा रहा है।
यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा
है। हकीकत यह है कि यह जानवर
देखने में वाकय नया व अनोखा है,
लेकिन इसके आबूरोड में पाए जाने
का दावा बिल्किुल गलत है। दैनिक
भास्कर ने इस वीडियो की हकीकत
पता की, तो सामने आया कि इस
तरह का कोई भी जानवर आबूरोड
में तोड छोडिए पूरे भारत में ही नहीं
पाया जाता। माउंट आबू के उपवन
संरक्षक बालाजी करी ने बताया कि
इस तरह का वीडियो उनके पास में
भी आया है। उन्होंने बताया कि इस
तरह का कोई जानवर आबूरोड में
नहीं पाया जाता।
तो, क्या है हकीकत
उपवन संरक्षक बालाजी करी के
अनुसार इस जानवर का नाम
आर्मडिल्लो है, जो ब्राजील और
साउथ अमेरिका में ही पाया जाता
है। भारत में इसके होने की संभावना
नहीं के बराबर है। इसका शरीर बड़ा
अजीब होता है। इसके उपर कछुए
की तरह ही एक कवच होता है। जब
भी इस पर हमला होता है, तो वह
अपने शरीर को कवच में कर लेता है
और खुद को एक गैंद बना लेता है।
फ्रॉम-जयन्ति लाल प्रतिहार बजरंगी जालोर(राज.)