"हलचल (1995 फ़िल्म)" के अवतरणों में अंतर

6,432 बैट्स् जोड़े गए ,  3 वर्ष पहले
पूरा किया
(सफ़ाई)
(पूरा किया)
| budget =
}}
'''हलचल''' 1995 में बनी [[हिन्दी भाषा की [[एक्शन फ़िल्म]] है। यह लेखक रहे [[अनीस बज़मी]] की फिल्मसबसे पहली निर्देशित फ़िल्म है। इसमें [[विनोद खन्ना]], [[अजय देवगन]] और [[काजोल]] हैं।
 
== संक्षेप ==
देवा ([[अजय देवगन]]) को एसीपी सिद्धान्त ([[विनोद खन्ना]]) और उसकी पत्नी पुष्पा ([[नवनी परिहार]]) ने पाला है। करन ([[रॉनित रॉय]]) उनका जैविक पुत्र है जो अक्सर देवा की तरफ अपनी मां के ध्यान से ईर्ष्या महसूस करता है। देवा एक प्रेमपूर्ण और जिम्मेदार बेटा है, जबकि करन अपने माता-पिता के लिए अपनी लापरवाही जीवनशैली के कारण तनाव का निरंतर स्रोत है। शोभराज ([[अमरीश पुरी]]) एक समृद्ध और शक्तिशाली व्यापारी है जिसका बेटा एसीपी सिद्धान्त द्वारा बलात्कार और हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया जाता है। शोभराज सिद्धान्त को अपने बेटे को रिहा करने के लिये रिश्वत देने की कोशिश करता है लेकिन असफल रहता है।
 
इस बीच, करन को अपनी प्रेमिका की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया। पुष्पा अपने बेटे को खोने के विचार से टूट जाती है। देवा ने अपनी दत्तक मां के लिए करन को निर्दोष साबित करने का वचन लिया। शोभराज फिर से सिद्धान्त से संपर्क करता है और सिद्धान्त अपने बेटे के खिलाफ आरोप छोड़ने पर करन को बचाने का वादा करता है। सिद्धान्त ने इस प्रस्ताव से इंकार कर दिया और शोभराज के बेटे को मौत की सजा सुनाई गई। देवा को अपनी प्रेमिका शर्मिली ([[काजोल]]) की मदद से, पता चलता है कि करन की प्रेमिका की वास्तव में रॉकी द्वारा हत्या कर दी गई थी। यह पता चला कि शोभराज ने हत्या के लिए करन को फँसाने के लिए रॉकी को काम पर रखा था। देवा ने रॉकी को पकड़ लिया और उसे पुलिस स्टेशन ले गया। हालांकि इससे पहले वो न्यायाधीश के सामने अपना बयान दे सकता है, शोभराज ने रॉकी की हत्या कर दी। इस बीच, एक उच्च न्यायालय शोभराज के बेटे की अपील को खारिज कर देता है और बाद में उसे सूली चढ़ा दिया जाता है। शोभराज ने सिद्धान्त के पूरे परिवार को अपने बेटे की मौत का बदला लेने के लिये मारने की कसम खाई। वह करन और पुष्पा का अपहरण करता है और सिद्धान्त को आने और उससे मिलने के लिए कहता है। करन पुष्पा को बचाने के लिए जाता है जबकि सिद्धान्त शोभराज से मिलने जाता है। एक लड़ाई होती है जिसमें शोभराज और उसके आदमी मारे जाते हैं और करन, पुष्पा, देवा और सिद्धान्त दोबारा मिलते हैं।
 
== मुख्य कलाकार ==
 
== संगीत ==
{{track listing
| extra_column = गायक
| total_length = 43:26
| all_music = गीत [[अनु मलिक]]
| title1 = बंदो पे अपने ऐ दाता
| extra1 = [[सोनू निगम]], [[साधना सरगम]]
| length1 = 7:56
| lyrics1 = अभिलाष
| title2 = आई एम सिक्सटीन
| extra2 = [[अलीशा चिनॉय]], [[विनोद राठोड़]]
| length2 = 7:25
| lyrics2 = ज़फ़र गोरखपुरी
| title3 = मैं लैला की छुट्टी कर दूँ
| extra3 = साधना सरगम, विनोद राठोड़
| length3 = 6:32
| lyrics3 = [[इन्दीवर]]
| title4 = मैं तेरे मन की मैना
| extra4 = [[अलका याज्ञिक]], विनोद राठोड़
| length4 = 6:59
| lyrics4 = कुलवंत जानी
| title5 = पहली दफा इस दिल में
| extra5 = अलका याज्ञिक, [[कुमार सानु]]
| length5 = 7:31
| lyrics5 = [[फैज़ अनवर]]
| title6 = सावन का महीना
| extra6 = विनोद राठोड़, अलीशा चिनॉय
| length6 = 7:03
| lyrics6 = एम॰ जी॰ हाशमत
}}
 
== बाहरी कड़ियाँ ==