मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

26 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
clean up AWB के साथ
[[चित्र:Skeletal muscle.jpg|right|thumb|300px|पेशी की संरचना]]
'''पेशी''' (Muscle) प्राणियों का आकुंचित होने वाला (contractile) [[ऊतक]] है। इनमें आंकुंचित होने वाले सूत्र होते हैं जो कोशिका का आकार बदल देते हैं। पेशी कोशिकाओं द्वारा निर्मित उस [[ऊतक]] को '''पेशी ऊतक''' कहा जाता है जो समस्त [[अंग|अंगों]] में गति उत्पन्न करता है।<ref>{{cite book |last=त्रिपाठी |first=नरेन्द्र नाथ |title= सरल जीवन विज्ञान, भाग-२|year=मार्च २००४ |publisher=शेखर प्रकाशन |location=कोलकाता |id= |page=८६-८७ |accessdayaccess-date= १७|accessmonth= सितंबर|accessyear= २००९}}</ref> इस ऊतक का निर्माण करने वाली [[कोशिका|कोशिकाएं]] विशेष प्रकार की आकृति और रचना वाली होती हैं। इनमें कुंचन करने की क्षमता होती है। पेशिया रेखित, अरेखित एवं हृदय तीन प्रकार की होती हैं। मनुष्य के शरीर में 40 प्रतिशत भाग पेशियों का होता है। मानव शरीर में 639 मांसपेशियां पाई जाती हैं। इनमें से 400 पेशियाँ रेखित होती है। शरीर में सर्वाधिक पेशियां पीठ में पाई जाती है। पीठ में 180 पेशियां पाई जाती हैं। पेशियां तीन प्रकार की होती हैं। ऐच्छिक मांसपेशियाँ, अनैच्छिक मांसपेशियाँ और हृदय मांसपेशियाँ।
 
== वर्गीकरण ==
 
ऐच्छिक पेशी का निर्माण करने वाले कोशिकाएँ लंबी, बेलनाकार एवं अशाखित होती हैं। ऐच्छिक पेशी सूत्रों की प्रकाश द्वारा परीक्षा करने से वे लंबाई की ओर खंडों में विभक्त पड़ते हैं, जिनमें से एक प्रकाशहीन और दूसरा प्रकाशमय खंड बारी बारी से स्थित है, अर्थात्‌ प्रकाशमय के पश्चात्‌ प्रकाशहीन और उसके पश्चात्‌ फिर प्रकाशमय। प्रकाहीन खंड के दोनों सिरों पर चौड़ाई की ओर बिंदु दिखाई देते हें, जो आपस में चौड़ाई की ओर अत्यंत सूक्ष्म रेखाओं से जुड़े हुए हैं। ऐसी ही रेखाएँ सूत्र की लंबाई की ओर भी इन बिंदुओं को जोड़े हुए हैं। यही रेखाजाल (straition) कहलाता है, जो अनुप्रस्थ और अनुदैर्ध्य दोनों प्रकार है। प्रत्येक सूत्राणु में यह दृश्य दीखता है। ये सूत्राणु अंतस्सूत्राणु वस्तु द्वारा गुच्छों में बँधे हैं, जिनके चारों ओर पेशीसार (sarcopl) स्थित है और जिसमें केंद्रक (nucleus) स्थित है। पेशी कोशिकाओं के चारों ओर एक आवरण पाया जाता है जिसे सार्कोलेमा ([[Sarcolemma]]) तथा उपस्थित [[केंद्रक]] को सार्कोप्लाज्म ([[Sarcoplasm]]) कहते हैं। इसमें बहुकोशिकीय केंद्रक पाया जाता है।
प्रत्येक पेशी तंतु में गहरी पट्टी जिसे A पट्टी कहते हैं जो मायोसीन ([[Myosin]]) की बनी होती है। इसमें हल्की I पट्टी एक्टिन ([[Actin]]) प्रोटीन की बनी होती है। दो एक्टिन पट्टी के मध्य एक आडी़ छड़ स्थित होती है, जिसे Z रेखा कहते हैं। दो Z रेखा के मध्य को सार्कोमीयर कहते हैं। A पट्टी के मध्य एक महीन रेखा जिसे M रेखा कहते हैं। M रेखा के दोनों ओर पट्टी का कुछ भाग हल्का दिखाई देता है जिसे H क्षेत्र कहते हैं।
 
अनैच्छिक पेशीसूत्र छोटे होते हैं। प्रत्येक सूत्राणु एक लंबोतरे आकार की कोशिका होता है, जो एक सिरे पर चपटा सा होता है और दूसरे पर लंबा, जहाँ वह कडरा में लग जाता है। इसकी लंबाई की ओर रेखाएँ भी दिखाई पड़ती हैं। एक कोशिका की लंबाई 200 माइक्रोन और चौड़ाई 4 से 7 माइक्रोन से अधिक नहीं होती। ये रेखांकित नहीं होती। इनमें एक ही केंद्रक होता है। ये पेशियाँ स्तरों में स्थित होती हैं, जिनमें सूत्राणु या सूत्रकोशिका अपने सिरों से मिली रहती है। आशायों या आंत्रनाल में ये पेशियाँ दो स्तरों में स्थित हैं। एक स्तर आंत्र की लंबाई की ओर स्थित है और दूसरा उसको चौड़ाई की ओर से घेरे हुए है। इसको अनुवृत्तकार और अनुदैर्ध्यं स्तर कहा जाता है। इन दोनों स्तरों के संकोच से नाली के भीतर की वस्तु आगे की ओर को संचरित होती है।हार्दिक पेशीसूत्र इन दोनों के बीच में हैं। प्रत्येक सूत्र एक कोशिका है, जिससे अनुदैर्ध्य और अनुप्रस्थ दोनों प्रकार का रेखांकन दिखाई देता है। किंतु ये सूत्र इच्छा के अधीन नहीं है। कोशिकाओं में विशेषता यह है कि उनसे शाखाएँ निकलती हैं, जो दूसरी कोशिकाओं की शाखाओं में मिल जाती है।
17,425

सम्पादन