मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

छो
clean up, replaced: |coauthors= → |author2= (10) AWB के साथ
ख्रुश्चेव और कास्त्रो गुप्त रूप से क्यूबा में सामरिक नाभिकीय मिसाइलें लगाने पर सहमत हो गये। कास्त्रो की तरह, ख्रुश्चेव ने भी महसूस किया कि क्यूबा पर एक यू॰एस॰ (U.S.) आक्रमण आसन्न है और क्यूबा को खोने से कम्युनिस्ट सिद्धांत को बड़ा नुक्सान उठाना पडेगा, खासकर लैटिन अमेरिका में. उन्होंने कहा कि वे अमेरिकियों से टकराव चाहते हैं "शब्दों के बजाय उससे कहीं ज्यादा...तार्किक उत्तर था मिसाइल."<ref>{{cite book|last=Weldes |first=Jutta |title=Constructing National Interests: The United States and the Cuban Missile Crisis |publisher=University of Minnesota Press |year=1999|isbn=0816631115}}</ref>{{rp|29}} सोवियत संघ ने अपनी सख्त गोपनीयता बनाए रखी, उन्होंने अपनी योजना को लौंगहैण्ड (हाथ से प्रवाही लेखन) से लिखा, जिसे रोडिओन मालिनोव्सकी ने 4 जुलाई को अनुमोदित किया और ख्रुश्चेव ने 7 जुलाई को।
 
सोवियत नेतृत्व का मानना था, जो बे ऑफ़ पिग्स आक्रमण के दौरान कैनेडी के आत्मविश्वास में कमी की उनकी अभिज्ञता पर आधारित थी, कि वे मिसाइलों को एक ''निर्विवादित तथ्य'' मानकर उसे स्वीकार कर लेंगे और टकराव से दूर रहेंगे.<ref name="Absher" />{{rp|1}} 11 सितंबर को, सोवियत संघ ने सार्वजनिक रूप से चेतावनी दी कि क्यूबा पर या द्वीप में आपूर्ति के लिए जा रहे सोवियत जहाज़ों पर यू॰एस॰ (U.S.) हमले को युद्ध माना जायेगा.<ref name="franklin" /> सोवियत संघ ने क्यूबा में अपनी कार्रवाइयों को छुपाये रखने के लिए अपना ''मस्किरोव्का'' कार्यक्रम जारी रखा। वे बार-बार इससे इंकार करते रहे कि क्यूबा में लाये जा रहे हथियार आक्रामक प्रकृति के हैं। 7 सितंबर को, सोवियत राजदूत अनातोली दोब्रिनिन ने संयुक्त राष्ट्र में यू॰एस॰ (U.S.) राजदूत अडलाई स्टीवेंसन को आश्वासन दिया कि यूएसएसआर (USSR) क्यूबा को केवल रक्षात्मक हथियारों की आपूर्ति कर रहा है। 11 सितंबर को, सोवियत समाचार एजेंसी तास (TASS) ने घोषणा की कि क्यूबा में आक्रामक परमाणु मिसाइलें लगाने की सोवियत संघ को कोई जरूरत नहीं या ऐसा कोई इरादा नहीं है। 13 अक्टूबर को, पूर्व विदेश उपमंत्री चेस्टर बाउल्स ने दोब्रिनिन से पूछा कि क्या क्यूबा में आक्रामक हथियार लगाने की सोवियत संघ की योजना है। उन्होंने ऐसी किसी योजना से इंकार किया।<ref name="blight">{{cite book|last=Blight|first=James G.|coauthorsauthor2=Bruce J. Allyn and David A. Welch|title=Cuba on the Brink|publisher=Rowmand and Littlefield Publishers, Inc.|location=Lanham, Maryland| year=2002| edition=paperback| isbn=0-7425-2269-5}}</ref> और फिर 17 अक्टूबर को, सोवियत दूतावास अधिकारी ज्योर्जी बोल्शाकोव ने राष्ट्रपति कैनेडी को ख्रुश्चेव का एक "व्यक्तिगत संदेश" दिया, जिसमें उन्हें आश्वस्त किया गया था कि "किसी भी परिस्थिति में जमीन से जमीन पर मार करने वाली मिसाइलें क्यूबा नहीं भेजी जाएंगी."<ref name="blight" />{{rp|494}}
 
[[चित्र:U2 Image of Cuban Missile Crisis.jpg|right|thumb|क्यूबा में सोवियत परमाणु मिसाइलों की यू-2 की टोही तस्वीर. ईंधन भरने और रखरखाव के लिए मिसाइल परिवहन और टेंट दिखाई दे रहे हैं।]]
[[चित्र:McNamara and Kennedy.jpg|left|thumb|राष्ट्रपति कैनेडी और रक्षा सचिव मैकनैमारा एक्सॉम (EXCOMM) की बैठक में.]]
 
तब एक्सॉम (EXCOMM) ने शक्ति के सामरिक संतुलन, राजनीतिक और सैनिक दोनों पर पड़ने वाले प्रभाव पर चर्चा की। संयुक्त चीफ्स ऑफ स्टाफ का मानना था कि मिसाइलों से सैन्य संतुलन गंभीर रूप से बदल जाएगा, लेकिन रक्षा सचिव रॉबर्ट मैकन्मारा ने इससे असहमति जतायी. उन्हें यकीन था कि मिसाइलों से सामरिक संतुलन पर बिल्कुल कोई असर नहीं पड़नेवाला. उनका कहना था कि अतिरिक्त चालीस से समग्र सामरिक संतुलन पर कोई ख़ास फर्क नहीं पडेगा. यू॰एस॰ (U.S.) के पास पहले से ही लगभग 5,000 सामरिक स्फोटक शीर्ष (वारहेड्स) थे, जबकि सोवियत संघ के पास सिर्फ 300.<ref>{{cite book|first=Robert Evan |last=Ornstein |title=New world new mind: moving toward conscious evolution|publisher=The University of Michigan, Doubleday |year=1989|unused_data=others}}</ref>{{rp|261}} उन्होंने कहा कि इसलिए सोवियत संघ के पास 340 होने में सामरिक संतुलन मूलतः नहीं बदलने वाला. 1990 में उन्होंने दोहराया कि "इससे कोई अंतर ''नहीं'' आया।..सैन्य संतुलन नहीं बदला था। मैं तब भी नहीं मानना था और मैं अब भी नहीं मानता हूं."<ref>{{cite book|last=Blight| first=J.|coauthorsauthor2=Welch, D. |title=On the Brink: Americans and Soviets Reexamine the Cuban Missile Crisis |publisher= Noonday Press |year=1990}}</ref>
 
एक्सॉम (EXCOMM) सहमत था, हालांकि, मिसाइलों से ''राजनीतिक'' संतुलन प्रभावित हो रहा था। सबसे पहले, कैनेडी ने संकट से एक माह पहले अमेरिकी जनता से स्पष्ट वादा किया था कि "अगर अमेरिका के खिलाफ आक्रामक कार्रवाई करने लायक क्षमता से संपन्न होता है।..तो अमेरिका कार्रवाई करेगा,"<ref>{{cite journal|unused_data=DUPLICATE DATA: title=In Public Papers of the Presidents: John F Kennedy, 1962|last=Kennedy |first=J. |title=The President's News Conference of September 13, 1962 |location=Washington, DC |publisher= Government Printing Office |year=1963}}</ref>{{rp|674-681}} दूसरे, उसके सहयोगियों और अमेरिकी जनता के बीच यू॰एस॰ (U.S.) की विश्वसनीयता को क्षति पहुंचेगी, अगर वे क्यूबा में मिसाइल लगाने के जरिये सामरिक संतुलन को बदलता ''दिखाने'' की सोवियत संघ को इजाजत देते हैं। संकट के बाद कैनेडी ने कहा कि "इससे राजनीतिक रूप से शक्ति संतुलन बदल जाता. ऐसा आभास हो रहा था और आभास का वास्तविकता में योगदान होता है।"<ref>{{cite journal|last=Kennedy, J. |title=After Two Years: A conversation with the president |format=Television and radio interview |date=December 17, 1962 |work=In 'Public Papers of the Presidents: John F. Kennedy, 1962' |location=Washington, DC. |publisher=Government Printing Office |year=1963}}</ref>{{rp|889-904}}
[[चित्र:President Kennedy signs Cuba quarantine proclamation, 23 अक्टूबर 1962.jpg|right|thumb|23 अक्टूबर 1962 को ओवल कार्यालय में राष्ट्रपति कैनेडी क्यूबा के आक्रामक हथियारों के वितरण पर पाबंदी की उद्घोषणा पर हस्ताक्षर करते हैं।]]
सोमवार, 22 अक्टूबर दोपहर 3:00 बजे ईएसटी (EST) बजे राष्ट्रपति कैनेडी ने औपचारिक रूप से राष्ट्रीय सुरक्षा कार्रवाई ज्ञापन (एनएसएएम (NSAM)) 196 के साथ कार्यकारिणी समिति एक्सॉम (EXCOMM) की स्थापना की। शाम 5:00 बजे, वे कांग्रेस के नेताओं से मिले, जो कलहपूर्वक नाकाबंदी का विरोध कर रहे थे और एक तगड़ी प्रतिक्रया की मांग कर रहे थे। मास्को में, राजदूत कोहलर ने अध्यक्ष ख्रुश्चेव को आसन्न नाकाबंदी और राष्ट्र के नाम कैनेडी के भाषण के बारे में बताया। दुनिया भर के राजदूतों ने गैर-[[पूर्वी ब्लॉक|पूर्वी खेमे]] के नेताओं को अग्रिम सूचना दे दी। भाषण से पहले, यू॰एस॰ (U.S.) के प्रतिनिधिमंडल ने कनाडा के प्रधानमंत्री जॉन डिफेनबेकर, ब्रिटिश प्रधानमंत्री हेरोल्ड मैकमिलन, पश्चिम जर्मन चांसलर कोनराड अड़ेनौअर और फ्रांस के राष्ट्रपति [[शार्ल डु गोल|चार्ल्स डी गाल]] के साथ मुलाकात की और उन्हें यू॰एस॰ (U.S.) ख़ुफ़िया विभाग तथा अपनी प्रस्तावित प्रतिक्रिया के बारे में बताया। सभी ने यू॰एस॰ (U.S.) की स्थिति का समर्थन किया।<ref>{{cite web|url=http://www.cubacrisis.net/angl/pages/aubord01.html|title=The Cuban Missile Crisis—Brinkmanship
| last=Buffet |first=Cyril |coauthorsauthor2=Vincent Touze|accessdate=3 मई 2010}}</ref>
 
22 अक्टूबर सोमवार शाम को 7:00 बजे EST, राष्ट्रपति कैनेडी ने सभी प्रमुख नेटवर्क द्वारा प्रसारित एक देशव्यापी टेलीविजन भाषण दिया, जिसमें मिसाइलों की खोज की घोषणा की।
कैनेडी के भाषण के दो दिन बाद, चीनी ''पीपुल्स डेली'' ने घोषणा की कि "650,000,000 चीनी पुरुष और महिलाएं क्यूबा की जनता के साथ खड़े हैं।"<ref>{{cite web|url=http://www.cubacrisis.net/angl/pages/aubordset_02.html|title=The Cuban Missile Crisis -- Brinkmanship|accessdate=3 मई 2010}}</ref>
 
जर्मनी में, समाचार पत्रों ने संयुक्त राज्य अमेरिका की प्रतिक्रिया का समर्थन किया, लगे हाथ पिछले महीनों के दौरान इस क्षेत्र में ढुलमुल अमेरिकी कार्रवाईयों के साथ इसकी तुलना भी कर डाली। उन्होंने अपने कुछ भय भी व्यक्त किये कि सोवियत संघ बर्लिन में बदला ले सकता है।<ref name="cubacrisis">{{cite web|url=http://www.cubacrisis.net/angl/pages/aubord_rfa11.html| title=The Cuban Missile Crisis—Brinkmanship |last=Buffet |first=Cyril |coauthorsauthor2=Vincent Touze|accessdate=3 मई 2010}}</ref> 23 अक्टूबर को फ्रांस में, यह संकट सभी दैनिक समाचार पत्रों की सुर्खियां बना हुआ था। अगले दिन, ''ले मोंडे'' के एक संपादकीय में सीआईए के फोटोग्राफिक सबूत की प्रामाणिकता के बारे में संदेह व्यक्त किया गया। दो दिन बाद, एक उच्चस्तरीय सीआईए (CIA) एजेंट के आने के बाद, उन्होंने तस्वीरों की वैधता को स्वीकार किया। फ्रांस में ही, ''ले फिगारो'' के 29 अक्टूबर के अंक में रेमंड एरोन ने अमेरिकी प्रतिक्रिया के समर्थन में लिखा.<ref name="cubacrisis" />
 
=== सोवियत प्रसारण ===
== अतिरिक्त पढ़ें ==
 
* {{cite book|last=Allison|first=Graham |coauthorsauthor2=Zelikow, P.| title=Essence of Decision: Explaining the Cuban Missile Crisis |location=New York |publisher=Longman |year=1999}}
* {{cite book|last=Blight|first=James G.|coauthorsauthor2=David A. Welch.| title=On the Brink: Americans and Soviets Reexamine the Cuban Missile Crisis |location= New York |publisher=Hill and Wang |year=1989}}
* {{cite book|last=Chayes |first=Abram.| title=The Cuban Missile Crisis, International Crisis and the Role of Law |publisher=Oxford University Press |year= 1974 |edition= second}}
* {{cite book|last=Diez Acosta |first=Tomás, ''October 1962: The 'Missile' Crisis As Seen From Cuba |publisher=Pathfinder Press |location=New York|year=2002}}
* {{cite book|last=Feklisov |first= Alexander and Sergei Kostin.| title=The Man Behind the Rosenbergs|publisher= Enigma Books |year= 2005 |isbn= 978-1-929631-24-7}}
* {{cite book|last=Frankel |first= Max | title=High Noon in the Cold War |publisher= Presidio Press (reprint)|year=2005 |isbn=0-345-46671-3}}
* {{cite book|last=Fursenko |first= Aleksandr |coauthorsauthor2= Naftali, Timothy | title=One Hell of a Gamble - Khrushchev, Castro and Kennedy 1958-1964|publisher= W.W. Norton |location=New York |year=1998}}
* {{cite book|last=Fursenko |first= Aleksandr |url=http://www.nwc.navy.mil/press/Review/2006/summer/pdfs/art6-su06.pdf | title=Night Session of the Presidium of the Central Committee |date=22–23 October|publisher= Naval War College Review| volume= 59 |number= 3 |issue=Summer 2006}}
* {{cite book|last=George|first=Alice L.|title=Awaiting Armageddon: How Americans Faced the Cuban Missile Crisis|year=2006|publisher=University of North Carolina Press|isbn=0807828289}}
* {{cite book|last=Kennedy |first=Robert F.| title=Thirteen Days: A Memoir of the Cuban Missile Crisis|isbn=0-393-31834-6}}
* {{cite book|last=Khrushchev |first= Sergei | title=How my father and President Kennedy saved the world|publisher= American Heritage magazine |date=October 2002}}
* {{cite book|last= May |first= Ernest R. (editor)|coauthorsauthor2= Zelikow, Philip D. (editor)| title=The Kennedy Tapes: Inside the White House during the Cuban Missile Crisis |publisher=Belknap Press|year=1997|isbn=0-674-17926-9}}
* {{cite book|last=Polmar |first= Norman |coauthorsauthor2=Gresham, John D. (foreword by Clancy, Tom) | title=DEFCON – 2: Standing on the Brink of Nuclear War During the Cuban Missile Crisis|publisher=Wiley |year=2006|isbn=0-471-67022-7}}
* {{cite book|last=Pope |first= Ronald R.| title=Soviet Views on the Cuban Missile Crisis: Myth and Reality in Foreign Policy Analysis |publisher= University Press of America |year=1982}}
* {{cite journal|last=Pressman |first= Jeremy | title=September Statements, October Missiles, November Elections: Domestic Politics, Foreign-Policy Making, and the Cuban Missile Crisis|work=Security Studies |volume= 10|edition=Spring, 2001 |pages=80–114 |issue= 3}}
* {{cite book|last=Stern |first= Sheldon M. | title=Averting the Final Failure: John F. Kennedy and the Secret Cuban Missile Crisis Meetings|publisher= Stanford University Press |year=2003|isbn= 0-804-74846-2}}
* {{cite book|last=Trahair |first= Richard C.S. |coauthorsauthor2=Robert Miller | title=Encyclopedia of Cold War Espionage, Spies, and Secret Operations|publisher= Enigma Books |year=2009 |isbn=978-1-929631-75-9}}
* {{cite book|last=Stern|first=Sheldon M.|title=The Week The World Stood Still: Inside The Secret Cuban Missile Crisis (Stanford Nuclear Age Series)|publisher=Stanford University Press|year=2005|isbn=0804750777}}
* {{cite video|title=The Cuban Missile Crisis: Declassified|format= Television Program}}
17,425

सम्पादन