मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

45 बैट्स् जोड़े गए ,  11 माह पहले
छो
clean up, replaced: |date=October → |date=अक्टूबर, |date=December → |date=दिसम्बर, |date=April → |date=अप्रैल, |date=June → |date=जून AWB के साथ
 
2007 में, दुनिया के लगभग एक तिहाई श्रमिक कृषि क्षेत्र में कार्यरत थे। हालांकि, [[औद्योगीकरण|औद्योगिकीकरण]] की शुरुआत के बाद से कृषि से सम्बंधित महत्त्व कम हो गया है और 2003 में-इतिहास में पहली बार-[[सेवा (अर्थशास्त्र)|सेवा]] क्षेत्र ने एक [[आर्थिक क्षेत्र]] के रूप में कृषि को पछाड़ दिया क्योंकि इसने दुनिया भर में अधिकतम लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया।<ref>[2] ^ [http://www।ilo।org/public/english/employment/strat/kilm/index।htm श्रम बाजार के ][[अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन]] महत्वपूर्ण संकेतक 2008, [http://www।ilo।org/public/english/employment/strat/download/get08.pdf पी। 11-12]
</ref> इस तथ्य के बावजूद कि कृषि दुनिया के आबादी के एक तिहाई से अधिक लोगों की रोजगार उपलब्ध कराती है, कृषि उत्पादन, [[सकल विश्व उत्पाद]] ([[सकल घरेलू उत्पाद]] का एक समुच्चय) का पांच प्रतिशत से भी कम हिस्सा बनता है।<ref>{{cite web |url=https://www।cia।gov/library/publications/the-world-factbook/geos/xx।html#Econ |title=https://www।cia।gov/library/publications/the-world-factbook/geos/xx।html#Econ |accessdate= |format= |work= }} {{Dead link|date=Juneजून 2009}}</ref>[5]
 
== संज्ञा ==
और 1929-1931 से डोरसेट-मोर्स ओरिएंटल कृषि अन्वेषण अभियान जो सोयाबीन जर्मप्लास्म को इकठ्ठा करने के लिए चीन, जापान और कोरिया में चलाया गया, ताकि संयुक्त राज्य में सोयाबीन के उत्पादन में वृद्धि हो सके।<ref>USDA NAL विशेष संग्रह। [http://riley।nal।usda।gov/nal_display/index।php?info_center=8&amp;tax_level=4&amp;tax_subject=158&amp;topic_id=1982&amp;level3_id=6419&amp;level4_id=10866&amp;level5_id=0&amp;placement_default=0&amp;test डोरसेट- मोर्स ओरिएंटल कृषि अन्वेषण अभियान संग्रह]</ref>
 
[[चीन में कृषि|अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष]] के अनुसार 2005 में, [[अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष|दुनिया में चीन का कृषि उत्पादन]] सबसे अधिक रहा, यह यूरोपीय संघ, भारत और अमरीका के बाद पूरी दुनिया का लगभग छठा हिस्सा था। {{Fact|date=Octoberअक्टूबर 2008}}[33] अर्थशास्त्री कृषि की [[कुल कारक उत्पादकता]] का मापन करते हैं और इस मापन के अनुसार संयुक्त राज्य में कृषि 1948 की तुलना में लगभग 2। 6 गुना अधिक उत्पादक है।<ref>[34] ^ USDA ERS। [http://www।ers।usda।gov/data/agproductivity/ संयुक्त राज्य अमेरिका में कृषि उत्पादकता]</ref>
 
छह देश- अमेरिका, कनाडा, फ्रांस, आस्ट्रेलिया, अर्जेंटीना और थाईलैंड- [[अनाज व्यापार|अनाज के निर्यात]] की 90% आपूर्ति करते हैं।<ref>[http://www।i-sis।org।uk/TFBE।php खाद्य Bubble अर्थव्यवस्था।] ''दी इंस्टीट्यूट ऑफ़ साइंस इन सोसाइटी ''</ref> [[जल घाटा|जल के घाटे]] से युक्त देश, जो अल्जीरिया, ईरान, मिस्र और मैक्सिको सहित असंख्य मध्यम आकार के देशों में पहले से ही भारी मात्रा में [[अनाज]] का आयात कर रहे हैं,<ref>[36] ^ [http://www।greatlakesdirectory।org/zarticles/080902_water_shortages।htm "ग्लोबल जल की कमी मई भोजन की कमी] करने के लिए [http://www।greatlakesdirectory।org/zarticles/080902_water_shortages।htm नेतृत्व-Aquifer रिक्तीकरण",] लेस्टर आर ब्राउन</ref> जल्द ही [[चीन का जनवादी गणराज्य|चीन]] और [[भारत]] जैसे बड़े देशों में ऐसा कर सकते हैं।<ref>[37] ^ [http://www।atimes।com/atimes/South_Asia/HG21Df01।html इंडिया ग्रोज अ ग्रेन क्राइसिस] एशिया टाइम्स 21 जुलाई 2006।</ref> ==
उदाहरण के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका में मकई ([[मक्का]]) की औसत पैदावार 1900 में 2। 5 टन प्रति हेक्टेयर (t/ha) (40 बुशेल्स प्रति एकड़) से बढ़कर 2001 में 9। 4 टन प्रति हेक्टेयर (t/ha) (150 बुशेल्स प्रति एकड़) हो गयी।
 
इसी तरह दुनिया की औसत गेंहू की पैदावार 1900 में 1 टन प्रति हेक्टेयर से बढ़ कर 1990 में 2। 5 टन प्रति हेक्टेयर हो गई है। सिंचाई के साथ दक्षिण अमेरिका की औसत गेहूं की पैदावार लगभग 2 टन प्रति हेक्टेयर है, अफ्रीका की 1 टन प्रति हेक्टेयर से कम है, [[मिस्र]] और अरब की 3। 5 से 4 टन प्रति हेक्टेयर तक है। इसके विपरीत, फ़्रांस जैसे देशों में गेंहू की पैदावार 8 टन प्रति हेक्टेयर से अधिक है। पैदावार में ये भिन्नताएं मुख्य रूप से जलवायु, आनुवांशिकी और गहन कृषि तकनीकों (उर्वरकों का उपयोग, रासायनिक [[कीट नियंत्रण]], अवांछनीय पौधों को रोकने के लिए वृद्धि नियंत्रण) के स्तर में भिन्नताओं के कारण होती हैं।<ref>{{cite journal | last = Ruttan | first = Vernon W। | title = Biotechnology and Agriculture: A Skeptical Perspective | journal = AgBioForum | volume = 2 | issue = 1 | pages = 54–60 | publisher = | month = December | year = 1999 | url = http://www।mindfully।org/GE/Skeptical-Perspective-VW-Ruttan।htm | accessdate = 11 अक्टूबर 2007 | format = {{Dead link|date=Aprilअप्रैल 2009}} – <sup>[http://scholar।google।co।uk/scholar?hl=en&lr=&q=author%3ARuttan+intitle%3ABiotechnology+and+Agriculture%3A+A+Skeptical+Perspective&as_publication=AgBioForum&as_ylo=1999&as_yhi=1999&btnG=Search Scholar search]</sup> }}</ref><ref>{{cite journal | last = Cassman | first = K। | authorlink = |author2= | title = Ecological intensification of cereal production systems: The Challenge of increasing crop yield potential and precision agriculture | journal = Proceedings of a National Academy of Sciences Colloquium, Irvine, California | volume = | issue = | pages = | publisher = University of Nebraska | date= 5 दिसंबर 1998 | url = http://www।lsc।psu।edu/nas/Speakers/Cassman%20manuscript।html | doi = | id = | accessdate = 11 अक्टूबर 2007 }}</ref><ref>रूपांतरण नोट: गेहूं का एक बुशेल = 60 पाउंड (पौंड) ≈ 27। 215 किलोग्राम। एक बुशेल मक्का = 56 पाउंड 25। 401 किलोग्राम</ref>
 
=== आनुवंशिक अभियांत्रिकी ===
लिंक
 
{{POV-section|date=Decemberदिसम्बर 2008}}
{{further|[[Biofuel#Rising food prices/the "food vs। fuel" debate|Effect of biofuels on food prices]]}}
 
17,425

सम्पादन