"भक्ति": अवतरणों में अंतर

1 बाइट हटाया गया ,  3 वर्ष पहले
छो
47.29.24.159 (Talk) के संपादनों को हटाकर J ansari के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (47.29.24.159 (Talk) के संपादनों को हटाकर J ansari के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
 
{{लहजा|date=फ़रवरी 2015}}
'''भक्ति''' भजन है। किसका भजन? ब्रह्म का, महान का। महान वह है जो चेतना के स्तरों में मूर्धन्य है, यज्ञियों में यज्ञिय है, पूजनीयों में पूजनीय है, सात्वतों, सत्वसंपन्नों में शिरोमणि है और एक होता हुआ भी अनेक का शासक, कर्मफलप्रदाता तथा भक्तों की आवश्यकताओं को पूर्ण करनेवाला है।
47,590

सम्पादन