"अष्टछाप": अवतरणों में अंतर

82 बाइट्स हटाए गए ,  3 वर्ष पहले
ssd
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
(ssd)
'''अष्टछाप''', महाप्रभु श्री [[वल्लभाचार्य]] जी एवं उनके पुत्र श्री [[विट्ठलनाथ]] जी द्वारा संस्थापित ८ भक्तिकालीन कवियों का एक समूह था, जिन्होंने अपने विभिन्न पद एवं कीर्तनों के माध्यम से भगवान श्री कृष्ण की विभिन्न लीलाओं का गुणगान किया।<ref>हिंदी साहित्य का दूसरा इतिहास, [[बच्चन सिंह|डॉ॰ बच्चन सिंह]], राधाकृष्ण प्रकाशन, दिल्ली, २00२, पृष्ठ- १२८, ISBN: 81-7119-785-X</ref> अष्टछाप की स्थापना १५६५ ई० में हुई थी।<ref>हिन्दी साहि्त्य का इतिहास, सम्पादक [[डॉ॰ नगेन्द्र|डॉ॰ नगेन्द्र]], नेशनल पब्लिशंग हाउस, नई दिल्ली, द्वितीय संस्करण १९७६ ई०, पृष्ठ २१७</ref>
 
अष्टछाप== कवियों के अंतर्गत [[पुष्टिमार्ग|पुष्टिमार्गीय]] आचार्य वल्लभ के काव्य कीर्तनकार चार प्रमुख शिष्य तथा उनके पुत्र विट्ठलनाथ के भी चार शिष्य थे। आठों ब्रजभूमि के निवासी थे और श्रीनाथजी के समक्ष गान रचकर गाया करते थे। उनके गीतों के संग्रह को "अष्टछाप" कहा जाता है, जिसका शाब्दिक अर्थ आठ मुद्रायें है। उन्होने ब्रजभाषा में [[श्रीकृष्ण]] विषयक भक्तिरसपूर्ण कविताएँ रचीं। उनके बाद सभी कृष्ण भक्त कवि [[ब्रजभाषा]] में ही कविता रचने लगे। अष्टछाप के कवि जो हुये हैं, वे इस प्रकार से हैं:- ==
 
== अष्टछाप कवि ==
अष्टछाप कवियों के अंतर्गत [[पुष्टिमार्ग|पुष्टिमार्गीय]] आचार्य वल्लभ के काव्य कीर्तनकार चार प्रमुख शिष्य तथा उनके पुत्र विट्ठलनाथ के भी चार शिष्य थे। आठों ब्रजभूमि के निवासी थे और श्रीनाथजी के समक्ष गान रचकर गाया करते थे। उनके गीतों के संग्रह को "अष्टछाप" कहा जाता है, जिसका शाब्दिक अर्थ आठ मुद्रायें है। उन्होने ब्रजभाषा में [[श्रीकृष्ण]] विषयक भक्तिरसपूर्ण कविताएँ रचीं। उनके बाद सभी कृष्ण भक्त कवि [[ब्रजभाषा]] में ही कविता रचने लगे। अष्टछाप के कवि जो हुये हैं, वे इस प्रकार से हैं:-
* [[कुंभनदास]] (1448 ई. -1582 ई)
* [[सूरदास]] (१४७८ ई. - १५८० ई.)
गुमनाम सदस्य