मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  10 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
 
 
==शिल्प स्मारक==
[[चालुक्य]] शैली का उद्भव ४५० ई. में एहोल में हुआ था। यहाँ वास्तुकारों ने नागर एवं द्रविड़ समेत विभिन्न शैलियों के प्रयोग किए थे। इन शैलियों के संगम से एक अभिन्न शैली का उद्भव हुआ। [[सातवीं शताब्दी]] के मध्य में यहां [[चालुक्य वंश|चालुक्य राजाओं]] के राजतिलक होते थे। कालांतर में मंदिर निर्माण का स्थल बादामी से पत्तदकल आ गया। यहाँ कुल दस मंदिर हैं, जिनमें एक जैन धर्मशाला भी शामिल है। इन्हें घेरे हुए ढेरों चैत्य, पूजा स्थल एवं कई अपूर्ण आधारशिलाएं हैं। यहाँ चार मंदिर द्रविड़ शैली के हैं, चार नागर शैली के हैं एवं पापनाथ मंदिर मिश्रित शैली का है। पत्तदकल को [[१९८७]] में [[युनेस्को]] द्वारा [[विश्व धरोहर स्थल]] घोषित किया गया था। <ref>{{cite web
|url=http://www.hinduonnet.com/fline/fl2201/stories/20050114000106500.htm
}}</ref>
 
==शिल्प स्मारक==
यहां के बहुत से शिल्प अवशेष यहां बने प्लेन्स के संग्रहालय तथा शिल्प दीर्घा में सुरक्षित रखे हैं। इन संग्रहालयों का अनुरक्षण [[भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग]] करता है। ये भूतनाथ मंदिर मार्ग पर स्थित हैं। इनके अलावा अन्य महत्वपूर्ण स्मारकों में, अखण्ड एकाश्म स्तंभ, नागनाथ मंदिर, चंद्रशेखर मंदिर एवं महाकुटेश्वर मंदिर भी हैं, जिनमें अनेकों शिलालेख हैं। वर्ष के आरंभिक त्रैमास में यहां का वार्षिक नृत्योत्सव आयोजन होता है, जिसे चालुक्य उत्सव कहते हैं। इस उत्सव का आयोजन पत्तदकल के अलावा बादामी एवं ऐहोल में भी होता है। यह त्रिदिवसीय संगीत एवं नृत्य का संगम कलाप्रेमियों की भीड़ जुटाता है। उत्सव के मंच की पृष्ठभूमि में मंदिर के दृश्य एवं जाने माने कलाकार इन दिनों यहां के इतिहास को जीवंत कर देते हैं।<ref name="कॉम">{{cite web
|url=http://www.pattadakal.com/
57,555

सम्पादन