मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

1,252 बैट्स् जोड़े गए ,  11 माह पहले
+
== संक्षेप ==
इस कहानी की शुरुआत अशोक ([[धर्मेन्द्र]]), विनोद ([[विनोद खन्ना]]) और रणधीर के बचपन से शुरू होती है। उन सभी का भारत में बहुत ही तेज ट्रेन बनाने और चलाने का सपना होता है। उनके बड़े होने के बाद एक दिन भारतीय रेलवे एक बहुत ही तेज ट्रेन "सुपर एक्सप्रेस" बनाने की अनुमति देती है। विनोद, रणधीर और राकेश अपना अपना मॉडल चुनाव हेतु भेजते हैं, लेकिन अंत में विनोद का दिया मॉडल ही चुना जाता है। रणधीर को अपने मॉडल के न चुने जाने से गुस्सा आ जाता है और वो इसका बदला लेने की सोचता है। लगभग 6 साल गुजर जाते हैं और विनोद अपनी ट्रेन बनाने के काम में लगा रहता है और अंत में पूरा भी कर लेता है, जिससे लोग बस 14 घंटे में ही दिल्ली से मुंबई में जा सकते हैं।
 
अशोक और विनोद दो खूबसूरत महिलाओं से प्यार करते हैं: सीमा ([[हेमामालिनी]]) और शीतल ([[परवीन बॉबी]])। रणधीर भी शीतल से प्यार करता है, लेकिन वह विनोद से शादी करती है और उनके पास एक बच्चा है, राजू, जो रणधीर को बहुत दर्द देता है। अशोक और सीमा अपनी सगाई के बाद शादी करने की योजना बना रहे होते हैं, लेकिन अचानक अशोक के पिता को भारी दिवालियापन का सामना करना पड़ता है। वह अपनी संपत्ति खो देते हैं और आत्महत्या कर लेते हैं। अशोक सड़क पर आ जाता है और यहाँ तक कि सीमा उसे छोड़ देती है। अशोक शहर छोड़ देता है।
 
ट्रेन के पहली बार चलने का समय भी आ जाता है और वो ट्रेन दिल्ली से मुंबई जाने के लिए मथुरा स्टेशन से निकल जाती है। अशोक की मुलाक़ात रणधीर से होती है, वे दोनों बात करते रहते हैं कि रणधीर उसे बताता है कि उसने बदला लेने के लिए ट्रेन के ब्रेक को हटा दिया है और इंजन में बम भी रख दिया है। ये बात जान कर अशोक तुरंत ट्रेन की ओर जाता है, पर उससे पहले ही ट्रेन में धमाका हो जाता है और ड्राइवर की मौत हो जाती है। इसके बाद ट्रेन बिना रुके आगे बढ़ते जाती है।