"रीति काल": अवतरणों में अंतर

211 बैट्स् नीकाले गए ,  3 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
विद्वानों का यह भी मत हॅ कि इस काल के कवियों ने काव्य में मर्यादा का पूर्ण पालन किया है। घोर शृंगारी कविता होने पर भी कहीं भी मर्यादा का उल्लंघन देखने को नहीं मिलता है।
 
Sanjaykexclusive
== इन्हें भी देखें ==
:[[हिन्दी साहित्य]]
:[[आदिकाल]]
:[[भक्ति काल]]
:[[आधुनिक हिंदी पद्य का इतिहास]]
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
बेनामी उपयोगकर्ता