"खण्डकाव्य" के अवतरणों में अंतर

137 बैट्स् जोड़े गए ,  10 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
इस परिभाषा के अनुसार किसी भाषा या उपभाषा में सर्गबद्ध एवं एक कथा का निरूपक ऐसा पद्यात्मक ग्रंथ जिसमें सभी संधियां न हों वह खंडकाव्य है। वह [[महाकाव्य]] के केवल एक अंश का ही अनुसरण करता है। तदनुसार [[हिंदी]] के कतिपय आचार्य खंडकाव्य ऐसे काव्य को मानते हैं जिसकी रचना तो महाकाव्य के ढंग पर की गई हो पर उसमें समग्र जीवन न ग्रहण कर केवल उसका खंड विशेष ही ग्रहण किया गया हो। अर्थात् खंडकाव्य में एक खंड जीवन इस प्रकार व्यक्त किया जाता है जिससे वह प्रस्तुत रचना के रूप में स्वत: प्रतीत हो।
 
वस्तुत: खंडकाव्य एक ऐसा पद्यबद्ध काव्य है जिसके कथानक में एकात्मक अन्विति हो; कथा में एकांगिता (साहित्य दर्पण के शब्दों में एकदेशीयता) हो तथा कथाविन्यास क्रम में आरंभ, विकास, चरम सीमा और निश्चित उद्देश्य में परिणति हो और वह आकार में लघु हो। लघुता के मापदंड के रूप में आठ से कम सर्गों के प्रबंध काव्यप्रबंधकाव्य को खंडकाव्य माना जाता है।
 
==इन्हें भी देखें==
*[[काव्य]]
*[[महाकाव्य]]
*[[मुक्तक काव्य]]
 
[[श्रेणी:साहित्य]]