"महाभारत का रचना काल" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
(महभारत को महाभारत बना दिया)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
== अवस्थाएं ==
* ये अवस्थाएं निम्न लिखित हैं:
** सर्वप्रथम् [[वेदव्यास]] द्वारा रचित एक लाख [[श्लोको]] और १०० पर्वो का "जय" महाकाव्य, जो बाद मे महाभारत के रूप मे प्रसिद्ध हुआ।<ref name="ReferenceA">महाभारत-गीता प्रेस गोरखपुर, आदि पर्व अध्याय १, श्लोक ९९-१०९</ref> सम्भावित रचना काल-(३१००10०० इसवी ईसा पूर्व)<ref>महाभारत मे ऐसा आता है की कुरुक्षेत्र के युद्ध के कछ दिनो बाद व्यास जी ने महाभारत की रचना की थी, क्योंकि कुरुक्षेत्र का युद्ध भारत मे पारम्परिक रूप से ३१०० ईसा पूर्व माना जाता है, इसलिये यह सम्भावित रचना समय दिया गया है हालांकि अधिकतर पाश्चात्य विद्वान महाभारत को १००० ईसा पुर्व लिखा मानते है और कुरुक्षेत्र युद्ध को १४००-१००० ईसा पुर्व परन्तु महाभारत मे दी गयी ज्योतिषिय गणणाए भी ३१०० ईसा पुर्व की ओर संकेत करती है</ref>
** दूसरी बार व्यास जी के कहने पर उनके शिष्य [[वैशम्पायन]] जी द्वारा पुनः इसी "जय" महाकाव्य को [[जनमेजय]] के [[यज्ञ]] समारोह में [[ऋषि]] [[मुनि|मुनियो]] को सुनाया तब यह वार्ता "भारत" के रूप मे जानी गायी।<ref name="ReferenceA"/> सम्भावित रचना काल-(३००० इसवी ईसा पूर्व)
[[चित्र:Snakesacrifice.jpg|thumb|जनमेजय के सर्प यज्ञ समारोह पर वैशम्पायन जी ऋषि मुनियो को महाभारत सुनाते हुए]]
938

सम्पादन