"धर्म के लक्षण" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
→‎मनुस्मृति: छोटा सी व्याकरण शुद्धि|
छो (106.210.45.179 (Talk) के संपादनों को हटाकर राजू जांगिड़ के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(→‎मनुस्मृति: छोटा सी व्याकरण शुद्धि|)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
: '''धीर्विद्या सत्‍यमक्रोधो दशकं धर्मलक्षणम्‌।।''' (मनुस्‍मृति ६.९२)
 
अर्थ – धृति (धैर्य ), क्षमा (अपना उपकारअपकार करने वाले का भी उपकार करना ), दम (हमेशा संयम से धर्मंधर्म में लगे रहना ), अस्तेय (चोरी न करना ), शौच ( भीतर और बाहर की पवित्रता ), इन्द्रिय निग्रह (इन्द्रियों को हमेशा धर्माचरण में लगाना ), धी ( सत्कर्मोसत्कर्मों से बुद्धि को बढ़ाना ), विद्या (यथार्थ ज्ञान लेना ). सत्यम ( हमेशा सत्य का आचरण करना ) और अक्रोध ( क्रोध को छोड़कर हमेशा शांत रहना )।
 
== याज्ञवल्क्य ==
बेनामी उपयोगकर्ता