"खगड़िया" के अवतरणों में अंतर

293 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
 
प्रमुख व्यक्ति स्वर्गीय रामसेवक सिंह स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने स्वतंत्रता संग्राम के लड़ाई में कई बार जेल भी गए। ऐसे महान क्रांतिकारी बिहार के पुण्य भूमि में खगड़िया का रामनगर नामक ग्राम कोसी नदी के किनारे पर बसा है। यह जगह फरकिया का मशहूर है।
 
==अर्थव्यवस्था==
2018 में खगड़िया में प्रिस्टाइन मेगा फूड पार्क शुरू किया गया।<ref>{{cite web|url=https://timesofindia.indiatimes.com/city/patna/3000-to-get-work-in-khagaria-food-park/articleshow/66887236.cms|title=3,000 to get work in Khagaria food park’}}</ref><ref>{{cite web|url=https://www.telegraphindia.com/states/bihar/mega-food-park-in-patna-not-ready-union-minister-walks-out/cid/1677106|title=Mega Food Park in Patna not ready, union minister walks out}}</ref><ref>{{cite web|url=https://timesofindia.indiatimes.com/city/patna/Minister-lays-stone-of-mega-food-park-in-Khagaria/articleshow/48382334.cms|title=Minister lays stone of mega food park in Khagaria}}</ref>
 
== प्रमुख आकर्षण ==
जिला मुख्यालय से लगभग 12 किलोमीटर की दूरी पर कात्यायनी स्थान है। इस जगह पर मां कात्यायनी का मंदिर है। इसके साथ ही भगवान राम, लक्ष्मण और मां जानकी का मंदिर भी है। प्रत्येक सोमवार और शुक्रवार काफी संख्या में भक्त मंदिर में पूजा के लिए आते हैं। माना जाता है कि इस क्षेत्र में मां कात्यायनी की पूजा दो रूपों में होती है। पौराणिक कथा के अनुसार ऋषि कात्यायन ने कौशिक नदी, जिसे वर्तमान में कोशी के नाम से जाना जाता है, तट पर तपस्या की थी। तपस्‍या से प्रसन्‍न होकर मां दुर्गा ने ऋषि की कन्या के रूप में जन्म लेना स्वीकार लिया। इसके बाद से उन्हें कत्यायनी के नाम से भी जाना जाता है। इसके अतिरिक्त, ऐसा कहा जाता है कि लगभग 300 वर्ष पूर्व यह जगह सघन जंगलों से घिरी हुई थी। एक बार भक्त श्रीपत महाराज ने मां कत्यायनी को स्वप्न में देखा और उनके दिशानिर्देश से इस जगह पर मंदिर का निर्माण करवाया था।
 
=== सन्हौली दुर्गास्थान===
<ref name="सन्हौली दुर्गास्थान">{{cite web | url = http://atulyabihar.com/goddess-durga-temple-in-khagaria/ ||last1= roshan |first1=abhishek |title=सन्हौली दुर्गास्थान में दशकों से मां दुर्गा विराजमान हैं |website=http://atulyabihar.com/goddess-durga-temple-in-khagaria/ |accessdate=7 जून 2018}}</ref>=== [http://atulyabihar.com/goddess-durga-temple-in-khagaria/ '''सन्हौली दुर्गास्थान''']===
खगड़िया शहर से सटे सन्हौली दुर्गास्थान में दशकों से मां दुर्गा विराजमान हैं । बड़ी संख्या में श्रद्धालु शक्तिपीठ मानकर यहां पूजा-अर्चना करते हैं। राज्य के विभिन्न हिस्सों के अलावा आसाम, उत्तर प्रदेश आदि राज्यों के श्रद्धालु भी मनोकामना पूरा होने पर यहां माता के दरबार में माथा टेकने व चढ़ावा चढ़ाने आते हैं।
https://commons.wikimedia.org/wiki/File:Khagaria_durga_sthan.png
 
=== अजगैबिनाथ महादेव ===
यह जगह भागलपुर जिले के सुल्तानगंज में स्थित है। यह स्थान खगड़िया जिले अगुनिघाट के बहुत ही समीप है। यहां स्थित भगवान शिव का मंदिर ऊंचे पर्वत पर है। काफी संख्या में भक्त मंदिर में दर्शनों के लिए आते हैं। इस मंदिर की विशेषता है कि यह मंदिर गंगा नदी के तट पर है। जिस कारण भक्त गंगा नदी में स्नान करने के पश्चात् ही मंदिर में भगवान शिव के दर्शनों के लिए जाते हैं।
 
== आवागमन ==
931

सम्पादन