"खगोल शास्त्र" के अवतरणों में अंतर

175 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
→‎परिचय: physics के किसी भी टॉपिक की जानकारी के लिए www.physicsfanda.co.in गूगल में सर्च करें।
छो (2401:4900:36A2:2356:2:2:8459:F90C (Talk) के संपादनों को हटाकर 2405:204:9226:4CB6:0:0:1E6E:38A0 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(→‎परिचय: physics के किसी भी टॉपिक की जानकारी के लिए www.physicsfanda.co.in गूगल में सर्च करें।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
इन धारणाओं में दूसरी धारणा की महत्ता अधिक है। इस धारणा के अनुसार ब्रह्मांड की उत्पत्ति एक महापिंड के विस्फोट से हुई है और इसी कारण आकाश गंगाएँ हमसे दूर भागती जा रही है। इस ब्रह्मांड का उलटा चित्र आप अपने सामने रखिए तब आपको ब्रह्मांड प्रसारित न दिखाई देकर सकुंचित होता हुआ दिखाई देगा और आकाश गंगाएँ भागती हुई न दिखाई देकर आती हुई प्रतीत होगी। अत: कहने का तात्पर्य यह है कि किसी समय कोई महापिंड रहा होगा और उसी के विस्फोट होने के कारण आकाश गंगाएँ भागती हुई हमसे दूर जा रही हैं। क्वासर और पल्सर नामक नए तारों की खोज से भी विस्फोट सिद्धांत की पुष्टि हो रही है।
 
 
physics के किसी भी टॉपिक की जानकारी के लिए www.physicsfanda.co.in गूगल में सर्च करें।
 
== इन्हें भी देखें ==
बेनामी उपयोगकर्ता