"प्रभासाक्षी": अवतरणों में अंतर

आकार में बदलाव नहीं आया ,  3 वर्ष पहले
छो
सम्पादन सारांश नहीं है
छोNo edit summary
छोNo edit summary
इस समाचार पोर्टल पर प्रकाशित सामग्री रुचिकर और पठनीय होने के साथ-साथ उच्च गुणवत्ता से भरी होती है। जहाँ इंटरनेट पर सनसनीखेज और अशालीन सामग्री की भरमार है, वहीं प्रभासाक्षी ने साफ-सुथरी तथा निष्पक्षतापूर्ण सामग्री के माध्यम से अपनी अलग पहचान बनाई है। यह पाश्चात्य संस्कृति का अंधानुकरण नहीं कर रहा अपितु भारतीय संस्कृति और भारतीयता का संदेश प्रसारित करने में भी तल्लीनता के साथ जुड़ा हुआ है।
 
देश के अनेक जाने-माने पत्रकार, लेखक, साहित्यकार, व्यंग्यचित्रकार आदि प्रभासाक्षी के साथ जुड़े रहे हैं। [[खुशवन्त सिंह|स्व. खुशवंत सिंह]], [[:en:Arun_Nehru|स्व. अरुण नेहरू]], [[:en:Dinanath_Mishra|स्व. दीनानाथ मिश्र]] और [[कुलदीप नैयर|श्रीस्व। कुलदीप नायर]] प्रभासाक्षी पर नियमित कॉलम लिखते रहे। वर्तमान में [[तरुण विजय|श्री तरुण विजय]] और श्री राजनाथ सिंह सूर्य जैसे प्रतिष्ठित स्तंभकार प्रभासाक्षी से जुड़े हुए हैं। तकनीकी दृष्टि से भी इस पोर्टल ने नए प्रतिमान कायम किए हैं, विशेषकर हिंदी भाषा में मौजूद प्रारंभिक सीमाओं तथा कठिनाइयों के बावजूद उसने गांव-कस्बों में रहने वाले नागरिकों के लिए उनकी अपनी भाषा में समाचार और विश्लेषण प्राप्त करना आसान बनाया है।
 
==सन्दर्भ==
18

सम्पादन