मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

4 बैट्स् जोड़े गए ,  8 माह पहले
छो
→‎हिन्दी और जनसंचार: खड़ीबोली को लिंक दिया
== हिन्दी और जनसंचार ==
{{मुख्य|हिन्दी के संचार माध्यम|हिन्दी सिनेमा}}
[[हिन्दी सिनेमा]] का उल्लेख किये बिना हिन्दी का कोई भी लेख अधूरा होगा। मुम्बई मे स्थित "[[बॉलीवुड]]" [[हिन्दी फ़िल्म]] उद्योग पर भारत के करोड़ो लोगों की धड़कनें टिकी रहती हैं। हर चलचित्र में कई गाने होते हैं। हिन्दी और [[उर्दू]] ([[खड़ीबोली]]) के साथ साथ [[अवधी]], [[बम्बइया हिन्दी]], [[भोजपुरी]], [[राजस्थानी भाषा|राजस्थानी]] जैसी बोलियाँ भी संवाद और गानों मे उपयुक्त होती हैं। प्यार, देशभक्ति, परिवार, अपराध, भय, इत्यादि मुख्य विषय होते हैं। अधिकतर गाने उर्दू शायरी पर आधारित होते हैं। कुछ लोकप्रिय चलचित्र हैं: महल (1949), [[श्री ४२०]] (1955), [[मदर इंडिया]] (1957), [[मुग़ल-ए-आज़म]] (1960), [[गाइड]] (1965), [[पाकीज़ा]] (1972), बॉबी (1973), ज़ंजीर (1973), यादों की बारात (1973), दीवार (1975), शोले (1975), मिस्टर इंडिया (1987), [[क़यामत से क़यामत तक]] (1988), मैंने प्यार किया (1989), जो जीता वही सिकन्दर (1991), हम आपके हैं कौन (1994), दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे (1995), दिल तो पागल है (1997), कुछ कुछ होता है (1998), ताल (1999), कहो ना प्यार है (2000), लगान (2001), [[दिल चाहता है]] (2001), कभी ख़ुशी कभी ग़म (2001), देवदास (2002), साथिया (2002), मुन्ना भाई एमबीबीएस (2003), कल हो ना हो (2003), धूम (2004), वीर-ज़ारा (2004), स्वदेस (2004), सलाम नमस्ते (2005), [[रंग दे बसंती]] (2006) इत्यादि।
 
अब मोबाइल कंपनियां ऐसे हैंडसेट बना रही हैं जो हिंदी और भारतीय भाषाओं को सपोर्ट करते हैं। बहुराष्ट्रीय कंपनियां हिंदी जानने वाले कर्मचारियों को वरीयता दे रही हैं। हॉलीवुड की फिल्में हिंदी में डब हो रही हैं और हिंदी फिल्में देश के बाहर देश से अधिक कमाई कर रही हैं। हिंदी, विज्ञापन उद्योग की पसंदीदा भाषा बनती जा रही है। गूगल, ट्रांसलेशन, ट्रांस्लिटरेशन, फोनेटिक टूल्स, गूगल असिस्टैन्ट आदि के क्षेत्र में नई नई रिसर्च कर अपनी सेवाओं को बेहतर कर रहा है। हिंदी और भारतीय भाषाओं की पुस्तकों का डिजिटलीकरण जारी है।