"गणेश" के अवतरणों में अंतर

61 बैट्स् जोड़े गए ,  11 माह पहले
www.ghumteganesh.com
(Logicaldunia (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 3969123 को पूर्ववत किया)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
(www.ghumteganesh.com)
}}
 
'''www.ghumteganesh.co गणेश''' [[शिव]]जी और [[पार्वती]] के [[पुत्र]] हैं। उनका वाहन डिंक नामक [[मूषक]] है। गणों के स्वामी होने के कारण उनका एक नाम गणपति भी है। [[ज्योतिष]] में इनको [[केतु]] का देवता माना जाता है और जो भी संसार के साधन हैं, उनके स्वामी श्री गणेशजी हैं। [[हाथी]] जैसा सिर होने के कारण उन्हें [[गजानन]] भी कहते हैं। गणेश जी का नाम हिन्दू शास्त्रो के अनुसार किसी भी कार्य के लिये पहले पूज्य है। इसलिए इन्हें ''प्रथमपूज्य'' भी कहते है। गणेश कि उपसना करने वाला सम्प्रदाय [[गाणपतेय]] कहलाते है।
 
== शारिरिक संरचना ==
'''''गणेश''''' को जन्म न देते हुए माता [[पार्वती]] ने उनके शरीर की रचना की। उस समय उनका मुख सामान्य था। माता पार्वती के स्नानागार में गणेश की रचना के बाद माता ने उनको घर की पहरेदारी करने का आदेश दिया। माता ने कहा कि जब तक वह स्नान कर रही हैं तब तक के लिये गणेश किसी को भी घर में प्रवेश न करने दे। तभी द्वार पर भगवान [[शंकर]] आए और बोले "पुत्र यह मेरा घर है मुझे प्रवेश करने दो।" गणेश के रोकने पर प्रभु ने गणेश का सर धड़ से अलग कर दिया।
गणेश को भूमि में निर्जीव पड़ा देख माता पार्वती व्याकुल हो उठीं। तब शिव को उनकी त्रुटि का बोध हुआ और उन्होंने गणेश के धड़ पर गज का सर लगा दिया।
उनको प्रथम पूज्य का वरदान मिला इसीलिए सर्वप्रथम गणेश की पूजा होती है।है।www.ghumteganesh.com
 
== बारह नाम ==
 
== ज्योतिष के अनुसार ==
ज्योतिष्शास्त्र के अनुसार गणेशजी को केतु के रूप में जाना जाता है, केतु एक छाया ग्रह है, जो राहु नामक छाया ग्रह से हमेशा विरोध में रहता है, बिना विरोध के ज्ञान नहीं आता है और बिना ज्ञान के मुक्ति नहीं है, गणेशजी को मानने वालों का मुख्य प्रयोजन उनको सर्वत्र देखना है, गणेश अगर साधन है तो संसार के प्रत्येक कण में वह विद्यमान है। उदाहरण के लिये तो जो साधन है वही गणेश है, जीवन को चलाने के लिये अनाज की आवश्यकता होती है, जीवन को चलाने का साधन अनाज है, तो अनाज गणेश है, अनाज को पैदा करने के लिये किसान की आवश्यकता होती है, तो किसान गणेश है, किसान को अनाज बोने और निकालने के लिये बैलों की आवश्यक्ता होती है तो बैल भी गणेश है, अनाज बोने के लिये खेत की आवश्यक्ता होती है, तो खेत गणेश है, अनाज को रखने के लिये भण्डारण स्थान की आवश्यक्ता होती है तो भण्डारण का स्थान भी गणेश है, अनाज के घर में आने के बाद उसे पीस कर चक्की की आवश्यक्ता होती है तो चक्की भी गणेश है, चक्की से निकालकर रोटी बनाने के लिये तवे, चीमटे और रोटी बनाने वाले की आवश्यक्ता होती है, तो यह सभी गणेश है, खाने के लिये हाथों की आवश्यक्ता होती है, तो हाथ भी गणेश है, मुँह में खाने के लिये दाँतों की आवश्यक्ता होती है, तो दाँत भी गणेश है, कहने के लिये जो भी साधन जीवन में प्रयोग किये जाते वे सभी गणेश है, अकेले शंकर पार्वते के पुत्र और देवता ही नही। www.ghumteganesh.com
 
== दीर्घा ==
<Gallerygallery>
File:Vinayak20120901 182939.jpg
File:Gajanan20120901 182954.jpg
File:Lord Ganesh Images Ganesh Statue.jpg|
File:The sculpture of lord Ganesh during ganes festival in India 2013-08-04 17-21.jpg|
</Gallerygallery>
 
== इन्हें भी देखें ==
बेनामी उपयोगकर्ता