"बायोम" के अवतरणों में अंतर

34 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
→‎सवाना बायोम: कड़ियाँ लगाई
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(→‎सवाना बायोम: कड़ियाँ लगाई)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
[[वर्षावन|सदाबहार वर्षावन]] बायोम जीवन की उत्पत्ति तथा विकास के लिए अनुकूलतम दशायें प्रदान करता है, क्योंकि इसमें वर्ष भर उच्च वर्षा तथा तापमान बना रहता है। इसी कारण इसे अनुकूलतम बायोम कहते हैं, जिसका [[जीवभार]] सर्वाधिक होता है। इस बायोम का विस्तार सामान्यतः १०° उत्तर तथा १०° दक्षिण अक्षांशों के मध्य पाया जाता है। इसका सर्वाधिक विकास तथा विस्तार [[अमेज़न वर्षावन|अमेजन बेसिन]], [[कांगो बेसिन]], तथा [[इण्डोनेशिया|इण्डोनेशियाई]] क्षेत्रों ख़ासकर [[बोर्नियो]] तथा [[सुमात्रा]] आदि में हुआ है।<ref>भौतिक भूगोल का स्वरूप, सविन्द्र सिंह, प्रयाग पुस्तक भवन, इलाहाबाद, २०१२, पृष्ठ ६६६-६७, ISBN: ८१-८६५३९-७४-३</ref>
 
=== सवाना बायोम ===(घास का मैदान)
[[सवाना]] बायोम से आशय उस वनस्पति समुदाय से है जिसमें धरातल पर आंशिक रूप से शु्ष्कानुकूलित शाकीय पौधों (partially xeromorphic herbaceous plants) का (मुख्यतः घासें) प्राधान्य होता है, साथ ही विरल से लेकर सघन वृक्षों का ऊपरी आवरण होता तथा मध्य स्तर में झाड़ियाँ होती हैं। इस बायोम का विस्तार [[भूमध्यरेखा]] के दोनों ओर १०° से २०° [[अक्षांश|अक्षांशों]] के मध्य ([[कोलम्बिया]] तथा [[वेनेजुएला]] के [[लानोज]], दक्षिण मध्य [[ब्राजील]], [[गयाना]], [[परागुए|परागुवे]], [[अफ्रीका]] में [[विषुवतीय जलवायु|विषुवतरेखीय जलवायु]] प्रदेश के उत्तर तथा दक्षिण मुख्य रूप से मध्य तथा पूर्वी अफ्रीका- सर्वाधिक विस्तार [[सूडान]] में, मध्य [[अमेरिका]] के पहाड़ी क्षेत्रों, उत्तरी [[ऑस्ट्रेलिया]] और [[भारत]] में) पाया जाता है। सवाना की उत्पति तथा विकास के संबंध में अधिकांश मतों के अनुसार इसका प्रादुर्भाव प्राकृतिक पर्यावरण में मानव द्वारा अत्यधिक हस्तक्षेप के फलस्वरूप हुआ है। [[भारत]] में पर्णपाती वनों के चतुर्दिक तथा उनके बीच में विस्तृत सवाना क्षेत्र का विकास हुआ है, परन्तु भारतीय सवाना में घासों की अपेक्षा झाड़ियों का प्राधान्य अधिक है।<ref>भौतिक भूगोल का स्वरूप, सविन्द्र सिंह, प्रयाग पुस्तक भवन, इलाहाबाद, २०१२, पृष्ठ ६७१, ISBN: ८१-८६५३९-७४-३</ref>
 
6

सम्पादन