"चिमनभाई पटेल": अवतरणों में अंतर

65 बाइट्स जोड़े गए ,  3 वर्ष पहले
छो
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (HotCat द्वारा श्रेणी:1929 में जन्मे लोग जोड़ी)
 
सरकार की तरफ से इस आंदोलन से निपटने में सख्ती दिखाई गई. 8053 लोग जेल में डाले गए. 1645 बार लाठीचार्ज हुआ. 4342 आंसूगैस के गोले दागे गए. 1405 राउंड फायरिंग हुई. 310 लोग इन प्रदर्शनों में घायल हुए. 105 लोगों की मौत हुई. इसमें से 61 छात्र थे. चिमनभाई को इसकी कीमत चुकानी पड़ी. इंदिरा गांधी ने नौ फरवरी को उनसे इस्तीफ़ा ले लिया. 11 फरवरी को छात्रों के बुलावे पर जय प्रकाश नारायण अहमदाबाद गए. यहां छात्रों का जोश देखकर उन्होंने इंदिरा गांधी के विरोध में चल रहे आंदोलन का नेतृत्व करने की हामी भरी. इस तरह चिमन भाई पटेल को मारी गई लात का खामियाजा इंदिरा गांधी को भी भुगतना पड़ा.
 
[[श्रेणी:1929 में जन्मे लोग]]