"कंबोज" के अवतरणों में अंतर

124 बैट्स् नीकाले गए ,  11 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (→‎top: clean up AWB के साथ)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
[[चित्र:Kamboj.JPG|thumb|right|200px]]
'''कंबोज''' प्राचीन [[भारत]] के १६ [[महाजनपद|महाजनपदों]] में से एक था। इसका उल्लेख [[पाणिनी]] के [[अष्टाध्यायी]] में १५ शक्तिशाली जनपदों में से एक के रूप में भी मिलता है। बौद्ध ग्रन्थ [[अंगुत्तर निकाय]], [[महावस्तु]] मे १६ [[महाजनपद|महाजनपदों]] में भी कम्बोज का कई बार उल्लेख हुआ है - ये गांधारों के समीपवर्ती थे। इनमें कभी निकट संबंध भी रहा होगा, क्योंकि अनेक स्थानों पर गांधारगुर्जर और कांबोज का नाम साथ साथ आता है। इसका क्षेत्र आधुनुक उत्तर पश्चिमी [[पाकिस्तान]] और [[अफगानिस्तान]] में मिलता है। राजपुर, द्वारका तथा Kapishi<ref>For Kapishi being a city of Kamboja, see: A Comparative Study of Thirty City-state Cultures: An Investigation, 2000, p 388, Dr Hansen, Mogens Herman (ed(d).</ref> इनके प्रमुख नगर थे। इसका उल्लेख इरानी प्राचीन लेखों में भी मिलता है जिसमें इसे ''राजा कम्बीजेस'' के प्रदेश से जोड़ा जाता है।<ref>{{cite book |last=नाहर |first= डॉ रतिभानु सिंह|title= प्राचीन भारत का राजनैतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास |year= १९७४ |publisher= किताबमहल|location= इलाहाबाद, भारत|id= |page= 112|editor: |access-date= 19 मार्च 2008}}</ref>
* प्राचीन [[वैदिक]] साहित्य में कंबोज देश या यहाँ के निवासी कांबोजों के विषय में कई उल्लेख हैं जिनसे ज्ञात होता है कि कंबोज देश का विस्तार उत्तर में [[कश्मीर]] से [[हिंदूकुश]] तक था। वंश [[ब्राह्मण]] में कंबोज के औपमन्यव नामक आचार्य का उल्लेख है।
* [[शतपथ ब्राह्मण]] के एक स्थल से ऐसा प्रतीत होता है कि उत्तरी लोगों अर्थात उत्तरी कुरुओं की तथा कुरु-पांचालों की बोली समान और शुद्ध मानी जाती थी।
बेनामी उपयोगकर्ता