मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

4 बैट्स् नीकाले गए ,  9 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
क्षेत्रफल के अनुसार ओड़िशा भारत का नौवां और जनसंख्या के हिसाब से ग्यारहवां सबसे बड़ा राज्य है। [[ओड़िआ भाषा]] राज्य की अधिकारिक और सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। भाषाई सर्वेक्षण के अनुसार ओड़िशा की 93.33% जनसंख्या ओड़िआ भाषी है। पाराद्वीप को छोड़कर राज्य की अपेक्षाकृत सपाट तटरेखा (लगभग 480 किमी लंबी) के कारण अच्छे बंदरगाहों का अभाव है। संकीर्ण और अपेक्षाकृत समतल तटीय पट्टी जिसमें [[महानदी]] का डेल्टा क्षेत्र शामिल है, राज्य की अधिकांश जनसंख्या का घर है। भौगोलिक लिहाज से इसके उत्तर में [[छोटानागपुर का पठार]] है जो अपेक्षाकृत कम उपजाऊ है लेकिन दक्षिण में [[महानदी]], [[ब्राह्मणी]], सालंदी और [[बैतरणी]] नदियों का उपजाऊ मैदान है। यह पूरा क्षेत्र मुख्य रूप से [[चावल]] उत्पादक क्षेत्र है। राज्य के आंतरिक भाग और कम आबादी वाले पहाड़ी क्षेत्र हैं। 1672 मीटर ऊँचा [[देवमाली]], राज्य का सबसे ऊँचा स्थान है।
 
ओड़िशा में तीव्र [[चक्रवात]] आते रहते हैं और सबसे तीव्र चक्रवात [[उष्णकटिबंधीय चक्रवात 05बी]], [[1 अक्टूबर]] [[1999]] को आया था, जिसके कारण जानमाल का गंभीर नुकसान हुआ और लगभग 10000 लोग मृत्यु का शिकार बन गये।
 
ओड़िशा के [[संबलपुर]] के पास स्थित [[हीराकुंड|हीराकुंड बांध]] विश्व का सबसे लंबा मिट्टी का बांध है। ओड़िशा में कई लोकप्रिय पर्यटक स्थल स्थित हैं जिनमें, [[पुरी]], [[कोणार्क]] और [[भुवनेश्वर]] सबसे प्रमुख हैं और जिन्हें पूर्वी भारत का सुनहरा त्रिकोण पुकारा जाता है। पुरी के [[जगन्नाथ मंदिर]] जिसकी [[रथयात्रा]] विश्व प्रसिद्ध है और कोणार्क के [[कोणार्क सूर्य मंदिर|सूर्य मंदिर]] को देखने प्रतिवर्ष लाखों पर्यटक आते हैं। [[ब्रह्मपुर]] के पास जौगदा में स्थित अशोक का प्रसिद्ध शिलालेख और कटक का [[बारबाटी किला]] भारत के पुरातात्विक इतिहास में महत्वपूर्ण हैं।