मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

4 बैट्स् नीकाले गए ,  9 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
== इतिहास ==
{{main|रामायणकालीन छत्तीसगढ़}}
छत्तीसगढ़ प्राचीनकाल के दक्षिण कोशल का एक हिस्सा है और इसका इतिहास पौराणिक काल तक पीछे की ओर चला जाता है। पौराणिक काल का 'कोशल' प्रदेश, कालान्तर में 'उत्तर कोशल' और '[[दक्षिण कोशल]]' नाम से दो भागों में विभक्त हो गया था इसी का 'दक्षिण कोशल' वर्तमान छत्तीसगढ़ कहलाता है। इस क्षेत्र के [[महानदी]] (जिसका नाम उस काल में '[[चित्रोत्पला]]' था) का [[मत्स्य पुराण]]{{Ref_label|मत्स्यपुराण|क|none}}, [[महाभारत]]{{Ref_label|महाभारत|ख|none}} के [[भीष्म पर्व]] तथा [[ब्रह्म पुराण]]{{Ref_label|ब्रह्मपुराण|ग|none}} के भारतवर्ष वर्णन प्रकरण में उल्लेख है। [[वाल्मीकि रामायण]] में भी छत्तीसगढ़ के बीहड़ वनों तथा महानदी का स्पष्ट विवरण है। स्थित [[सिहावा पर्वत]] के [[आश्रम]] में निवास करने वाले [[श्रृंगी ऋषि]] ने ही [[अयोध्या]] में राजा [[दशरथ]] के यहाँ [[पुत्रकामेष्टि|पुत्र्येष्टि यज्ञ]] करवाया था जिससे कि तीनों भाइयों सहित भगवान [[राम|श्री राम]] का [[पृथ्वी]] पर अवतार हुआ। राम के काल में यहाँ के वनों में ऋषि-मुनि-तपस्वी आश्रम बना कर निवास करते थे और अपने वनवास की अवधि में राम यहाँ आये थे।
 
इतिहास में इसके प्राचीनतम उल्लेख सन 639 ई० में प्रसिद्ध चीनी यात्री ह्मवेनसांग के यात्रा विवरण में मिलते हैं। उनकी यात्रा विवरण में लिखा है कि दक्षिण-कौसल की राजधानी सिरपुर थी। बौद्ध धर्म की महायान शाखा के संस्थापक बोधिसत्व नागार्जुन का आश्रम सिरपुर (श्रीपुर) में ही था। इस समय छत्तीसगढ़ पर सातवाहन वंश की एक शाखा का शासन था। महाकवि कालिदास का जन्म भी छत्तीसगढ़ में हुआ माना जाता है। प्राचीन काल में दक्षिण-कौसल के नाम से प्रसिद्ध इस प्रदेश में मौर्यों, सातवाहनों, वकाटकों, गुप्तों, राजर्षितुल्य कुल, शरभपुरीय वंशों, सोमवंशियों, नल वंशियों, कलचुरियों का शासन था। छत्तीसगढ़ में क्षेत्रीय राजवंशो का शासन भी कई जगहों पर मौजूद था। क्षेत्रिय राजवंशों में प्रमुख थे: बस्तर के नल और नाग वंश, कांकेर के सोमवंशी और कवर्धा के फणि-नाग वंशी। बिलासपुर जिले के पास स्थित कवर्धा रियासत में चौरा नाम का एक मंदिर है जिसे लोग मंडवा-महल भी कहा जाता है। इस मंदिर में सन् 1349 ई. का एक शिलालेख है जिसमें नाग वंश के राजाओं की वंशावली दी गयी है। नाग वंश के राजा रामचन्द्र ने यह लेख खुदवाया था। इस वंश के प्रथम राजा अहिराज कहे जाते हैं। भोरमदेव के क्षेत्र पर इस नागवंश का राजत्व 14 वीं सदी तक कायम रहा।