"वैष्णव सम्प्रदाय" के अवतरणों में अंतर

4 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
Ka
छो (2409:4052:201A:E9FF:4B58:91B:806B:CFCF (Talk) के संपादनों को हटाकर पूनम चंद वैष्णव के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न SWViewer [1.2]
(Ka)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
इसके अन्तर्गत चार सम्प्रदाय मुख्य रूप से आते हैं।
पहले हैं आचार्य रामानुज, निमबार्काचार्य, बल्लभाचार्य, माधवाचार्य।
इसके अलावा उत्तर भारत में आचार्य रामानन्द भी वैष्णव सम्प्रदाय के आचार्य हुए और चैतन्यमहाप्रभु भी वैष्णव आचार्य है जो बंगाल में हुए। रामान्दाचार्य जी ने सर्व धर्म समभाव की भावना को बल देते हुए कबीर, रहीम सभी वर्णों (जाति) के व्यक्तियों को भक्ति काka उपदेश किया। आगे रामानन्द संम्प्रदाय में गोस्वामी तुलसीदास हुए जिन्होने श्री [[रामचरितमानस]] की रचना करके जनसामान्य तक भगवत महिमा को पहुँचाया। उनकी अन्य रचनाएँ - विनय पत्रिका, दोहावली, गीतावली, बरवै रामायण एक ज्योतिष ग्रन्थ रामाज्ञा प्रश्नावली का भी निर्माण किया।
रामानंदाचार्य जी ने भक्ति के लिए सभी वर्ण और जाति के लिए मार्ग खोला,परंतु उन्होंने वर्ण व्यवस्था अनुरूप दो अलग अलग परंपरा चलायी।जय हरी
वैष्णव धर्म के अंदर भक्ति का प्रमुख स्थान है
बेनामी उपयोगकर्ता