"मेदिनी राय" के अवतरणों में अंतर

2,021 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
| उपाधि = [[राजा]]
| चित्र =
| समय = १६२०१६५८-१६३४१६७४
| राज्याभिषेक =
| पूर्वाधिकारी = भुपतभुपल राय
| उत्तराधिकारी = प्रताप राय
| राजघराना = [[चेरो राजवंश|चेरो]]
| वंश =
| पिता = अनन्त राय
| संतान = प्रताप राय
}}
'''मेदिनी राय''' सन् १६२०१६५८ से १६३४१६७४ तक [[झारखंड]] के [[पलामू]] के राजा थे। उन्होंने दक्षिण [[गया जिला|गया]], [[हजारीबाग जिला|हजारीबाग]] और [[सरगुजा जिला|सरगुजा]] पर अपना साम्राज्य विस्तार किया। <ref>{{Cite book|url=https://books.google.co.in/books?id=399UDwAAQBAJ&pg=PT71&lpg=PT71&dq=chero+dynasty&source=bl&ots=DG4kZFWBaD&sig=ACfU3U1H6dchgOZIQywNtZ0KWVdRPxbqbQ&hl=en&sa=X&ved=2ahUKEwiz8_7pjPDgAhXbV30KHa19BUMQ6AEwCXoECAkQAQ#v=onepage&q=chero%20dynasty&f=false|title=Bihar General Knowledge Digest|website=books.google.co.in|}}</ref>
<ref>{{Cite web|url=http://www.livehistoryindia.com/photo-essays/2018/07/03/the-twin-forts-of-palamau|title=The Twin Forts of Palamu|website=livehistoryindia.com|}}</ref><ref>{{Cite web|url=https://m.telegraphindia.com/states/jharkhand/history-rebuild-brick-by-brick-rs-56-lakh-restoration-plan-for-crumbling-palamau-fort/cid/825676|title=History rebuild, brick by brick - Rs 56-lakh restoration plan for crumbling Palamau Fort|website=telegraphindia.com|}}</ref> उसने डोइसा में छोटानागपुर के नागवंशी महाराजा [[रघुनाथ शाह]] को हराया और अपने इनाम के साथ, उन्होंने आधुनिक सतबरवा के पास [[पलामू के दुर्ग]] में से एक किला का निर्माण कराया। रत्तू महाराज के साथ उनकी लड़ाई ने उनके साम्राज्य का काफी हद तक विस्तार किया।<ref>{{cite web|url=http://palamu.nic.in/mediniray.htm|title=Medini Ray (1662-1674) |accessdate=November 21, 2014 |deadurl=yes |archiveurl=https://web.archive.org/web/20100827172010/http://palamu.nic.in/mediniray.htm |archivedate=August 27, 2010 }}</ref>
 
औरंगज़ेब के बिहार के दीवानी भम्भालने पर दाउद खान ने 1660 में पलामू के खिलाफ अभियान शुरू किया था। उसके साथ दरभंगा के फौजदार मिर्जा खान, चैनपुर के जागीरदार, मुन्गेर के राजा बहरोज, कोकर के नागबंशी शासक भी थे। सम्राट औरंगजेब से आदेश प्राप्त हुए कि चेरो शासक को इस्लाम धर्म ग्रहण करना था। युद्ध में, मेदिनी रय जंगल में भाग गए। दोनों किलों पर आक्रमणकारियों द्वारा कब्जा कर लिया गया और इस क्षेत्र को अधीनता में लाया गया था। चेरो राजधानी की हिंदू आबादी हटा दिया गया और उनकी मूर्तियों के साथ मंदिरों को नष्ट कर दिया गया। पलामू के शासक मेदिनी राय, दाउद खान द्वारा अपनी हार के बाद सरगुजा भाग गए थे। एक बार फिर उन्होंने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई और पलामू पर अधिकार कर लिया। उन्होंने कृषि को बढ़ावा देने के लिए और पलामू के उजाड़ राज्य को बेहतर बनाने के लिए गंभीर प्रयास किए, जो बार-बार मुगल आक्रमणों के कारण हुआ था। क्षेत्र बहुत समृद्ध हो गया और लोगों के पास भोजन और जीवन की अन्य सुविधाएं थीं।
 
==सन्दर्भ==
1,089

सम्पादन